कोकराझार मार्केट में हमलावरों ने की फायरिंग, 12 की मौत, सीएम सोनोवाल ने बताया पीएम को हाल

गुवाहाटी  असम के कोकराझार जिले में शुक्रवार को काले कपड़े पहने हमलावरों ने जमकर फायरिंग और गोलाबारी की. इस घटना में 12 लोगों की मौत हो गई है जबकि कई लोग घायल हो गए. एनकाउंटर अभी भी जारी है. शुरुआती रिपोर्टों के मुताबिक मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है. सुरक्षा बलों ने एक हमलावर को मार गिराया है. जानकारी के मुताबिक कोकराझार के बालाघाट तीनलो में उग्रवादी ने अंधाधुंध गोलाबारी की. इस घटना में NDFB उग्रवादियों के हाथ होने की संभावना है. कोकराझार IG के मुताबिक एनकाउंटर अभी भी जारी है और स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए भारी सेना में सुरक्षा बल को घटना स्थल पर भेजा जा रहा है. नागरिकों पर हुए इस हमले को लेकर असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने प्रधानमंत्री मोदी से फोन पर बात की है और मामले की पूरी जानकारी मुहैया करवाई है.ताया जा रहा है कि काला कपड़ा पहने हमलावरों ने फायरिंग की है और सुरक्षा बलों ने एक हमलावर को मार गिराया है. इसे उग्रवादियों का हमला बताया जा रहा है. घटना के तुरंत बाद सिक्युरिटी फोर्सेज ने मोर्चा संभाला और जवाबी कार्रवाई की. बताया जा रहा है कि बाजार में छिप कर चार हमलावर फायरिंग कर रहे हैं. असम में पिछले 7 सालों में हुआ यह बड़ा हमला बताया जा रहा है. हमले में उग्रवादी संगठन नैशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ बोडोलैंड (एनडीएफबी), उल्फा (यूएलएफए) का हाथ होने की आशंका. अभी तक किसी संगठन ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है. असम के मुख्‍यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की और हालात की जानकारी दी. गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू ने कहा कि यह काफी दुर्भाग्यपूर्ण घटना है. हमले में घायल हुए लोगों को उचित देखरेख दी जाएगी.

असम में बाढ़ का कहर, काजीरंगा पार्क में अब तक 140 जानवरों की मौत

असम में बाढ़ के कहर ने जनजीवन पूरी तरह से बाधित हो चुका है। वहीं काजीरंगा नेशनल पार्क का लगभग 80 फीसदी हिस्सा जलमग्न हो चुका है। दावा है कि बाढ़ के कारण अब तक 140 जानवरों की मौत हो चुकी है। मृत जानवरों में सात गैंडे भी शामिल हैं। काजीरंगा नेशनल पार्क की डिवीजनल फॉरेस्ट ऑफिसर रोहिणी बल्लाब सैकिया ने बताया कि 10 अगस्त तक सात गैंडे, 122 हिरण, दो हांथी, तीन जंगली सुअर, दो हॉग हिरण, तीन सांबर हिरण, एक भैंस और एक साही की मौत हो चुकी है। बता दें कि पूर्वोत्तर में बाढ़ से 58 जिलों को प्रभावित किया है जिनमें अब तक 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। राज्य में ब्रह्मपुत्र और इसकी उपनदियां बाढ़ के खतरे के निशान के ऊपर बहने की संभावनाएं बढ़ती जा रही हैं। इसी बीच राज्य के काजीरंगा नेशनल पार्क में पशुओं के हताहत होने की संख्या बढ़कर 140 पहुंच चुकी है। गौरतलब है कि मामले में काजीरंगा डिवीजनल फॉरेस्ट ऑफिसर रोहिणी बल्लाब सैकिया ने पहले कहा था कि बाढ़ की हालात में कुछ सुधार हुआ है। उस वक्त पार्क क्षेत्र में 50% जल स्तर नीचे पहुंच चुका था, जिस वजह से मरे जानवरों के शव सामने आ रहे थे।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3