बिहार: बक्सर में डीएम के बाद अब ओएसडी ने भी किया सुसाइड, मौत की गुत्थी और उल्झी

पटना। बिहार के बक्सर में जिलाधिकारी (डीएम) के विशेष कार्य पदाधिकारी (ओएसडी) तौकीर अकरम ने रविवार की सुबह बक्‍सर स्थित अावास पर फंदे से लटककर जान दे दी। कहा जा रहा है कि उन्‍होंने यह कदम काम के अत्‍यधिक दबाव तथा वेतन नहीं मिलने के कारण उठाया। सुसाइड नोट में उन्‍होंने घटना के लिए किसी को जिम्‍मेदार नहीं ठहराया है। हालांकि, राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने इसके लिए नीतीश सरकार को जिम्‍मेदार बताया है। घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए लालू प्रसाद ने कहा कि इसके लिए राज्‍य की नीतीश सरकार दोषी है। उन्‍होंने पत्रकारों को भी कहा कि उन्‍होंने ही सरकार का मन बढ़ा दिया है। केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने ओएसडी के खुदकशी पर दुख जताया। उन्‍होंने कहा कि वे पीड़ित परिवार से मिलने बक्सर जाएंगे। इस बीच बक्‍सर के डुमरांव में गोकुल ग्राम का शिलान्यास कार्यक्रम रद कर दिया गया है। केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह आज इसका शिलान्यास करने वाले थे।बताया जा रहा है कि उन्होंने पारिवारिक समस्या की वजह से खुद को खत्म किया था, लेकिन उनकी मौत की गुत्थी अभी तक उलझी हुई है। मुकेश पांडेय की परवरिश बिहार के सारण जिले में रहने वाले एक मध्यम आय वर्ग के परिवार में हुई थी। कमियों में पले बढ़े मुकेश पांडे की शिक्षा गुवाहटी में हुई, मुकेश पांडे ने गुवाहाटी से ही बीए ऑनर्स किया था। उसके बाद वे दिल्ली चले गए थे, जहां इन्होंने सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी शुरू की। दिल्ली में तैयारी करने के बाद पहली बार में वे यूपीएससी की परीक्षा में कामयाब नहीं हुए लेकिन दूसरी बार बिना किसी कोचिंग में पढ़ाई किए हुए ही यूपीएससी की परीक्षा पास की। जिसमें उन्हें ऑल इंडिया मे 14वीं रैंक मिली।

तेजस्वी यादव: क्रिकेट में रहे 'फ्लॉप' लेकिन पॉलिटिक्स में हैं 'हिट', जानिए

पटना। जीवन के 28 साल पूरे कर चुके तेजस्वी आज बिहार की राजनीति के अहम किरदार बन चुके हैं और कम उम्र में ही मंझे हुए राजनेता की तरह राजनीति कर रहे हैं। बिहार में महागठबंधन की सरकार में महत्वपूर्ण पद संभालने वाले तेजस्वी अब नेता प्रतिपक्ष बनाए गए हैं। बतौर डिप्टी सीएम बिहार की सत्ता को डेढ़ साल संभालने वाले तेजस्वी फिलहाल बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष के किरदार में हैं लेकिन वो सत्ता जाने के बाद भी लगातार अपने विपक्षी पार्टियों पर दवाब बनाये हुए हैं।कभी क्रिकेटर के रूप में अपना कैरियर शुरू करने वाले तेजस्वी यादव अब राजनीतिक पारी खेल रहे हैं और चौकों-छक्कों की बारिश कर रहे हैं। तेजस्‍वी यादव ने बीस साल की उम्र में क्रिकेट से अपने कैरियर की शुरुआत की थी और इसके लिए उन्हें अपने परिवार का सहयोग भी मिला था। उनके पिता लालू यादव भी बतौर प्रशासक क्रिकेट से जुड़े हुए थे। तेजस्वी ने 2009 में अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत की। इसी साल तेजस्‍वी झारखंड के प्रथम श्रेणी क्रिकेट टीम में शामिल किये गये। वो हरफनमौला की हैसियत से खेलने लगे और उन्होंने एक क्रिकेटर की तरह अपना लुक भी बना लिया था। तेजस्वी ने क्रिकेट खेलना तो शुरू किया लेकिन सही तौर पर अपना बेहतरीन प्रदर्शन नहीं कर सके। तेजस्‍वी ने रणजी के साथ-साथ आईपीएल का भी रूख किया। वो आईपीएल के कई सीजंस में दिल्‍ली डेयरडेविल्‍स टीम का हिस्सा रहे, लेकिन उन्‍हें एक भी मैच में खेलने का मौका नहीं मिल सका। तेजस्‍वी टीम में एक ऑलराउंडर थे जो बल्‍लेबाजी के साथ-साथ स्पिन गेंदबाजी भी करते थे। तेजस्वी यादव सोशल मीडिया और लड़कियों के बीच खासे चर्चित हैं। तेजस्वी ने बिहार की कमान संभालने से पहले ही सोशल मीडिया पर अपनी सक्रियता दिखाई और इलेक्शन के वक्त पार्टी का वार रूम बनाया। वो अपने फेसबुक पेज से लेकर ट्विटर हैंडल तक पर खासे सक्रिय रहते हैं।

More Articles...

  1. बिहारः बिना दरवाजा खटखटाए घर में घुसने पर सरपंच ने लगवाए जूते, चटवाया थूक
  2. बक्सर से बनारस के लिए एनएच बनाने की जरूरत: नीतीश
  3. लालू बोले, बिहार की जनता को बेवकूफ बना रहे हैं नीतीश और मोदी
  4. पीएम मोदी का बड़ा एलान- देश के 20 विश्वविद्यालय बनेंगे वर्ल्ड क्लास, शामिल होगा पीयू
  5. होटल के बदले जमीन घोटाला: सीबीआई ने लालू और तेजस्वी यादव को किया तलब
  6. मिशन 2019: अमित शाह ने बिहार के लिए भी शुरू कर दी है तैयारी, जानिए प्लान
  7. विपक्षी एकता को लगा झटका, लालू की रैली में शामिल नहीं होंगी माया, मुलायम पर सस्पेंस
  8. सृजन घोटाले में पहली बड़ी गिरफ्तारी, भागलपुर को-ऑपरेटिव बैंक के प्रबंध निदेशक पंकज जज गिरफ्तार
  9. डीएम सुसाइड मामला: पूरे गांव में चर्चा, आखिर क्यों किया मुकेश ने सुसाइड?
  10. बिहार के बाद भाजपा की तमिलनाडु पर नजरें, सत्ता हासिल करने के लिए बनाया ये प्लान

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3