हिमाचल : 9 दिन से सुरंग में फंसे मजदूरों को निकालने की कोशिशें अंतिम चरण में

बिलासपुर: हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर में 9 दिन से सुरंग के मलबे में फंसे मजदूरों को जल्द बाहर निकाले जाने की आस बढ़ गई है। बचाव दल सुरंग के करीब पहुंच चुका है।
अंतिम चरण में अभियान
कई दिनों से चल रहा ड्रिलिंग का काम खत्म हो चुका है। एनडीआरएफ़ की टीम अब सुरंग के अंदर उतरने की तैयारी में है। इससे पहले रविवार को सुरंग की छत को ड्रिल करते वक्त मशीन खराब हो गई। फिर नई मशीन मंगाई गई, जिसके बाद ड्रिलिंग का काम पूरा हुआ। बचाव दल लगातार दो मज़दूरों से संपर्क में है, लेकिन तीसरे मजदूर का अब तक कोई अता-पता नहीं है।
पाइप के जरिये पहुंचाया जा रहा है खाना-पानी
मजदूरों को पाइप के जरिए ऑक्सीजन, ग्लूकोज, ओआरएस, जूस दिया जा रहा है। साथ ही सेहत पर भी नज़र रखी जा रही है। मौके पर डॉक्टर भी मौजूद है।
सीसीटीवी के जरिये किया गया संपर्क
सुरंग में फंसे सतीश और मनीराम से सीसीटीवी के जरिये संपर्क किया गया। दोनों की हालत ठीक है, लेकिन तीसरे मजदूर हृदय राम का कुछ पता नहीं चल पाया।
रविवार को काम हुआ था बाधित
लगातार बारिश और भारी ड्रिलिंग रिंग में गड़बड़ी आने से एक निर्माणाधीन सुरंग में तकरीबन एक सप्ताह से फंसे तीन श्रमिकों को बचाने का काम बाधित हुआ।
विशेष सचिव (आपदा प्रबंधन एवं राजस्व) डीडी शर्मा ने कहा कि फंसे हुए लोगों तक पहुंचने के लिए 1.2 मीटर मोटाई वाली सुरंग को खोदने का काम लगभग पूरा हो गया था और एक मीटर से भी कम की खुदाई बाकी थी जब भारी ड्रिलिंग रिंग में अचानक खराबी आ गई। इसकी वजह से ड्रिल के एक हिस्से को हटाना पड़ा और अभियान को निलंबित करना पड़ा था।
गौरतलब है कि कीरतपुर से मनाली के बीच 4 लेन नेशनल हाइवे प्रोजेक्ट के लिए पनोह गांव के पास बन रही इस सुरंग में तीन मजदूर 12 सितंबर से फंसे हैं।

गोवा: पर्रिकर बने सीएम तो मिलेगा दूसरों का समर्थन, कांग्रेस ने लगाया हॉर्स ट्रेडिंग का आरोप

पणजी। गोवा विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद राज्य में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला है। भाजपा को एंटी इनकंबेंसी का खामियाजा भुगतान पड़ा और पार्टी यहां केवल 13 सीटें ही मिल पाई हैं। वहीं कांग्रेस ने बेहतर प्रदर्शन करते हुए 40 में से 17 सीटें जीत ली हैं। नतीजों के बाद जहां कांग्रेस ने सरकार बनाने का दावा ठोंक दिया है वहीं भाजपा भी सरकार बनाने की बात कह रही है। खबर यह भी है कि अगर भाजपा पर्रिकर को मुख्यमंत्री बनाती है तो अन्य दलों ने भाजपा को सरकार बनाने के लिए समर्थन का भरोसा दे दिया है। इस बीच कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने भाजपा पर विधायकों की खरीद फरोख्त का आरोप लगा दिया है। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि क्या यही वो पार्टी है जो नैतिकता की बात करती है? वो हार चुके हैं और हॉर्स ट्रेडिंग कर रहे हैं। मंत्री बनाने का ऐसा वादा कर रहे हैं जैसे मिठाई बांट रहे हों। उन्होंने भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि अगर आपके पास 21 से ज्यादा विधायक हैं, हम विपक्ष में बैठने को तैयार हैं लेकिन यह जनादेश की विरोध है। कांग्रेस के दावे को लेकर कहा कि हम गैरभाजपा विधायकों से संपर्क में हैं और हमारे पास समर्थन है। बता दें कि कांग्रेस बहुमत के आंकड़े से कांग्रेस अब भी चार सीट पीछे है लेकिन कांग्रेस की ओर से राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह ने सरकार बनाने का दावा ठोंक दिया है। दिग्विजय गोवा कांग्रेस के प्रभारी हैं। जबकि भाजपा खेमे से खबर है कि गोवा के पर्यवेक्षक बनाए गए नितिन गडकरी वहां पहुंच चुके हैं। दावा है कि पार्टी सरकार बनाने में कायमाब रहेगी और रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को मुख्यमंत्री बनाकर दोबारा गोवा भेजा जाएगा।यह देखना रोचक होगा कि तीन निर्दलीय समेत अन्य दल किसके साथ जाकर सरकार बनाने में मदद करते हैं। ये दल हैं- राकांपा एक सीट, महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी तीन सीट और गोवा फॉरवर्ड पार्टी तीन सीट।

More Articles...

  1. गोवा के बीच पर मिला विदेशी युवती का शव, रेप करके हत्या का शक
  2. शिमला के पास बस खाई में गिरी, 28 की मौत
  3. भारत-चीन में दोस्ती हुई तो दूसरे देशों पर भी होगा असर: दलाई लामा
  4. अमेरिकी रक्षा मंत्री का भारत के साथ सैन्य प्रौद्योगिकी तालमेल पर जोर
  5. आजादी के बाद सबसे ज्यादा कटु आलोचना मोदी की हुई: अमित शाह
  6. दुष्‍कर्म मामला: ठियोग में हालात बेकाबू, पुल‍िस की गाड़ी तोड़ी
  7. गोवा: शोरूम के चेंजिंग रूम में स्मृति ने पकड़ा कैमरा!
  8. रिश्वत कांड: क्राइम ब्रांच ने कामत के घर मारा छापा
  9. हिमाचल के सीएम वीरभद्र सिंह पर मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज
  10. कर्मचारी को थप्पड़ मारने वाले गोवा के मंत्री ने दिया इस्तीफा

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3