सूरत में मीडिया से बोले राहुल गांधी- जीएसटी पर सरकार ने हमारी नहीं सुनी

सूरत। कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी जीएसटी और नोटबंदी के मुद्दे पर मोदी सरकार को घेरने में लगे हुए हैं। गुजरात में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राहुल गांधी जीएसटी के मुद्दे को खासकर व्‍यापारियों के बीच उठा रहे हैं। नोटबंदी के एक साल होने पर राहुल गांधी ने बुधवार को सूरत पहुंचकर एक अनौपचारिक बैठक के दौरान जीएसटी के मुद्दे पर केंद्र सरकार को विफल बताया। सूरत पहुंचे राहुल गांधी ने व्‍यापारियों से कहा, 'देखिए, मैं कई बार केंद्र सरकार से अपील कर चुका हूं कि पांच स्‍लैब्‍स के साथ जीएसटी बिल्‍कुल नहीं चल सकता है। जीएसटी का स्‍लैब अधिक से अधिक 18 फीसद तक होना चाहिए। इसलिए मैं शुरुआत से कहता आ रहा हूं कि इसमें सुधार की बेहद जरूरत है।' नोटबंदी के एक साल पूरा होने पर राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए ट्विटर पर लिखा, 'नोटबंदी एक त्रासदी है, हम लाखों ईमानदार लोगों के साथ खड़े हैं, जिनके जीवन और आजीविका को प्रधानमंत्री के निर्णय ने तबाह कर दिया।' बता दें कि इससे पहले भी राहुल गांधी चुनाव प्रचार के दौरान यह कह चुके हैं कि अगर उनकी सरकार आती है, तो वह जीएसटी को पूरी तरह से बदल देंगे, जो व्‍यापारियों को सहूलियत देगा, परेशानी नहीं। गौरतलब है कि गुजरात में अगामी 9 और 14 दिसंबर को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होने हैं। चुनाव के नतीजे 18 दिसंबर को आएंगे। राहुल गांधी, भाजपा को गुजरात में मात देने के लिए काफी कोशिश करते नजर आ रहे हैं। गुजरात में राहुल गांधी काफी सभाएं कर चुके हैं।

योगी का राहुल पर वार, 'विकास पर बात करने वाले बाढ़ के समय इटली चले गए थे'

सूरत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को गुजरात के वलसाड में गौरव यात्रा में हिस्सा लिया. योगी ने राहुल पर वार करते हुए कहा कि कांग्रेस के शहजादे ने गुजरात के लोगों को गुमराह करने की कोशिश की है. गुजरात ने देश को महात्मा गांधी, सरदार पटेल और नरेंद्र मोदी को दिया है. उन्होंने कहा कि ऐसा कहा जाता है कि राहुल गांधी जहां पर प्रचार करते हैं वहां कांग्रेस चुनाव हार जाती है. उन्होंने कहा कि गुजरात में विकास की बात वे कांग्रेस के 5 कार्यकर्ताओं को वलसाड में योगी आदित्यनाथ के खिलाफ काले झंडे दिखाने के कारण हिरासत में ले लिया गया है. लोग कर रहे हैं , जो बाढ़ आने पर इटली और अमेरिका के दौरे पर चले गए थे. योगी ने कहा कि पीएम मोदी ने गुजरात से वाराणसी आए और चुनाव जीते. वहीं भगवान कृष्ण भी यूपी से गुजरात आए थे. गुजरात ने पिछले 20 साल में काफी विकास किया है. कांग्रेस के राज में यहां की प्रति व्यक्ति आय 14 हजार रुपए थी, लेकिन अब बढ़कर 1 लाख रुपए पहुंच गई है अहमदाबाद में बुलेट ट्रेन लाना पीएम मोदी का विज़न है कांग्रेस का नहीं. हमने मोदी जी की नेतृत्व में कच्छ और भुज का विकास होते हुए देखा है. यहां पर जब बाढ़ आई थी, तब पीएम मोदी और अमित शाह यहां पर आए थे, राहुल गांधी नहीं. राहुल गांधी ने अमेठी में पिछले 14 साल में कलेक्टर ऑफिस नहीं बनवाया. योगी ने हमला बोलते हुए कहा कि ये लोग इशरत जहां के सपोर्टर हैं, विनाश के एजेंट हैं. कांग्रेस ने गांधी जी का अपमान किया है. हमारा लक्ष्य गुजरात मुक्त कांग्रेस करना है. कांग्रेस ने इंदिरा गांधी और जवाहर लाल नेहरू को भारत रत्न दिया, पर कभी सरदार पटेल को नहीं दिया. जब वाजपेयी जी की सरकार आई तब इस काम को किया गया. बता दें कि 1 अक्टूबर को नितिन पटेल के नेतृत्व में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने ने सरदार पटेल की जन्मभूमि से गौरव यात्रा को हरी झंडी दिखाई. लेकिन बीजेपी अपने मंसूबे में अभी तक सफल होती नजर नहीं आ रही है. क्योंकि नितिन पटेल को जगह-जगह पटेल समुदाय की नाराजगी का सामना करना पड़ रहा है. मंगलवार को नितिन पटेल के नेतृत्व वाली गौरव यात्रा का 10वां दिन था. गुजरात के पाटन में गौरव यात्रा का बीजेपी कार्यकर्ताओं के द्वारा स्वागत कार्यक्रम रखा गया था. नितिन पटेल इस कार्यक्रम में 3 घंटे देर से पहुंचे. नितिन पटेल को यात्रा के दौरान चाणस्मा में पाटीदारों के विरोध का सामना करना पड़ा. नितिन पटेल और जीतू वाघाणी के नेतृत्व में निकली दोनों यात्राएं 4700 किमी से अधिक की दूरी तय करेंगी और राज्य के कुल 182 विधानसभा क्षेत्रों में ग्रामीण क्षेत्र की 149 सीटों से होकर गुजरेंगी. इसका समापन 16 अक्टूबर को होगा और पीएम नरेंद्र मोदी सभा को संबोधित करेंगे.

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3