गुजरात : पाटीदार प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लेने पर बवाल, सूरत में दो बसें

सूरत: गुजरात में सूरत के पाटीदारों के दबदबे वाले इलाके में देर रात अज्ञात प्रदर्शनकारियों ने दो बसें फूंक दीं. जानकारी के मुताबिक मंगलवार की शाम सौराष्ट्र भवन में गुजरात बीजेपी युवा मोर्चा के कार्यक्रम में हार्दिक पटेल के नेतृत्व वाली पाटीदार अनामत आंदोलन समिति से कथित तौर पर जुड़े कुछ लोगों ने हंगामा करने की कोशिश की थी. यह कार्यक्रम भाजपा ने आगामी विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखते हुए आयोजित किया था. बीजेपी पूरे राज्य में इस तरह की बैठकें आयोजित कर रही है. पुलिस ने जैसे ही पाटीदार प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया वबाल मच गया. सूरत के पुलिस आयुक्त सतीश शर्मा ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव भी किया. हीराबाग सर्किल में दो बसें फूंक दी गई. इलाके में अब स्थिति नियंत्रण में है. कंट्रोल रूम के एक अधिकारी ने बताया कि पुलिस को लाठीचार्ज भी करना पड़ा. सूरत में पाटीदारों की आबादी 10 लाख से ज्यादा है. पाटीदार समुदाय को 2015 में हार्दिक पटेल के रूप में नया नेता मिला था जिसने आरक्षण को लेकर पूरे राज्य में आंदोलन किया था. उधर, भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष रुतविज पटेल का कहना है कि यह घटना पटेल समुदाय के रुख को उजागर नहीं करती. यह बवाल 6-7 लड़कों द्वारा किया गया. पूरा पटेल समुदाय हमारे साथ है.वहीं, घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए हार्दिक पटेल ने दावा किया कि विरोध शांतिपूर्ण हो रहा था लेकिन पुलिस ने बेवजह लाठीचार्ज का इस्तेमाल किया. उन्होंने पाटीदार बहुल क्षेत्र में कोई भी कार्यक्रम की अनुमति न देने की पुलिस से अपील की.

गुजरात के भजियावाला ने 700 लोगों की मदद से कालेधन को करवाया सफेद

सूरत,सूरत के अरबपति चाय बेचने वाले किशोर भजियावाला के बारे में सीबीआई ने खुलासा किया है. सीबीआई ने बताया कि नोटबंदी के बाद किशोर भजियावाला ने कालेधन को ठिकाने लगाने के लिए 700 लोगों का इस्तेमाल किया था.सीबीआई सूत्रों ने बताया कि सूरत के चाय बेचने वाले से फायनेंसर बने किशोर भजियावाला ने नोटबंदी के बाद पैसे जमा करने और निकालने के लिए करीब 700 लोगों के डमी अकाउंट्स का प्रयोग किया था. आयकर विभाग के सूत्रों ने बताया कि अभी तक भजियावाला के 27 बैंक अकाउंट्स सामने आएं हैं, जिनमें करीब 20 अकाउंट्स बेनामी हैं. इन्हीं बेनामी अकाउंट्स के जरिए से भजियावाला ने बड़ी तादाद में कालेधन को सफेद किया. इस मामले में आयकर विभाग की भी जांच अभी जारी है. विभाग यह पता लगाने की कोशिश कर रहा है कि 8 नवंबर के बाद भजियावाला ने अपने अकाउंट्स में कितने पैसे निकाले और कितने जमा किए. गौरतलब है कि आयकर विभाग ने अभी तक भजियावाला के पास करोड़ों रुपये में नई करंसी, किलो के हिसाब से सोना-चांदी और बेशकीमती जेवरात बरामद किए हैं. वहीं जांच एजेंसियों को भजियावाला के पास अरबों रुपये की प्रॉपर्टी के दस्तावेज भी मिले हैं, जो उसकी पत्नी, बेटी और बेटे के नाम पर दर्ज हैं. गुजरात के साथ-साथ महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में भजियावाला की बेनामी संपत्ति का खुलासा किया गया है. बताते चलें कि कालेधन को सफेद करने के इस मामले में बड़े लोगों के शामिल होने की संभावनाओं के मद्देनजर यह केस सीबीआई को सौंपा गया था. फिलहाल सीबीआई मामले की जांच में जुटी है. जांच अधिकारी जल्द कुछ बड़े नामों का खुलासा होने की उम्मीद जता रहे हैं.

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3