सूरत में लगे अहमद पटेल के सीएम उम्मीदवार होने के पोस्टर, भाजपा पर लगाए आरोप

सूरत। गुजरात के विधानसभा चुनाव को लेकर पक्ष-विपक्ष के बीच रस्‍साकशी जारी है। इसी क्रम में अब पोस्‍टर वार शुरू हो गया है। कथित तौर पर अब कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता अहमद पटेल को इसमें घसीटा जा रहा है। दरअसल, सूरत में एक पोस्‍टर देखा गया है जिसमें मुस्‍लिमों से गुजरात में अहमद पटेल को वजीर-ए-आजम बनाने के लिए कांग्रेस को समर्थन देने की अपील की गयी है। हालांकि अहमद पटेल ने प्रेस कांफ्रेस कर इस बात को खारिज कर दिया है।पटेल ने कहा कि यह भाजपा द्वारा गलत प्रचार किया जा रहा है क्‍योंकि वे जानते हैं कि उन्‍हें यहां हार मिलेगी। मैं कभी मुख्‍यमंत्री पद के लिए उम्‍मीदवार नहीं था, न रहूंगा। अहमद पटेल ने ट्वीट में लिखा है कि मुद्दे की बात यह है कि भाजपा पिछले 22 साल के अपने शासनकाल में किए गए काम के मुद्दों से ध्यान भटकाना चाहती है। इसलिए ही झूठी अफवाहें फैला रही है। लेकिन गुजरात के लोगों ने इस बार अपना मन बना लिया है। भाजपा यह जान गयी है कि इस बार के चुनाव में उसे हार मिलेगी इसलिए ही फर्जी पोस्‍टर और झूठी अफवाहें फैला रही है।बता दें कि भाजपा पहले ही मुख्‍यमंत्री के उम्‍मीदवार का नाम घोषित कर चुकी है। पार्टी ने गुजरात के मुख्‍यमंत्री विजय रूपाणी को ही मुख्‍यमंत्री बनाने की घोषणा की है। कांग्रेस की ओर से फिलहाल ऐसा नहीं किया गया है।

सूरत में मीडिया से बोले राहुल गांधी- जीएसटी पर सरकार ने हमारी नहीं सुनी

सूरत। कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी जीएसटी और नोटबंदी के मुद्दे पर मोदी सरकार को घेरने में लगे हुए हैं। गुजरात में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राहुल गांधी जीएसटी के मुद्दे को खासकर व्‍यापारियों के बीच उठा रहे हैं। नोटबंदी के एक साल होने पर राहुल गांधी ने बुधवार को सूरत पहुंचकर एक अनौपचारिक बैठक के दौरान जीएसटी के मुद्दे पर केंद्र सरकार को विफल बताया। सूरत पहुंचे राहुल गांधी ने व्‍यापारियों से कहा, 'देखिए, मैं कई बार केंद्र सरकार से अपील कर चुका हूं कि पांच स्‍लैब्‍स के साथ जीएसटी बिल्‍कुल नहीं चल सकता है। जीएसटी का स्‍लैब अधिक से अधिक 18 फीसद तक होना चाहिए। इसलिए मैं शुरुआत से कहता आ रहा हूं कि इसमें सुधार की बेहद जरूरत है।' नोटबंदी के एक साल पूरा होने पर राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए ट्विटर पर लिखा, 'नोटबंदी एक त्रासदी है, हम लाखों ईमानदार लोगों के साथ खड़े हैं, जिनके जीवन और आजीविका को प्रधानमंत्री के निर्णय ने तबाह कर दिया।' बता दें कि इससे पहले भी राहुल गांधी चुनाव प्रचार के दौरान यह कह चुके हैं कि अगर उनकी सरकार आती है, तो वह जीएसटी को पूरी तरह से बदल देंगे, जो व्‍यापारियों को सहूलियत देगा, परेशानी नहीं। गौरतलब है कि गुजरात में अगामी 9 और 14 दिसंबर को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होने हैं। चुनाव के नतीजे 18 दिसंबर को आएंगे। राहुल गांधी, भाजपा को गुजरात में मात देने के लिए काफी कोशिश करते नजर आ रहे हैं। गुजरात में राहुल गांधी काफी सभाएं कर चुके हैं।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3