नारायण साईं मामले के एक और प्रमुख गवाह पर हरियाणा में हमला

पानीपत (हरियाणा): आसाराम के बेटे नारायण साईं के खिलाफ बलात्कार के मामले के एक अन्य प्रमुख गवाह को आज अज्ञात हमलावरों ने कथित तौर पर गोली मार दी. हमला हरियाणा के पानीपत जिले में हुआ.
आसाराम और उसके बेटे नारायण साईं के खिलाफ बलात्कार के मामलांे में गवाहों पर हमले का यह छठा मामला है. घटना पानीपत जिले के सनौली गांव की है, जहां पीड़ित महेंद्र चावला पर हमला बोला गया.
रोहतक रेंज के पुलिस महानिरीक्षक श्रीकांत जाधव ने पीटीआई भाषा को फोन पर बताया, ‘‘कुछ अज्ञात लोगों ने चावला पर गोली चलाई. उन्हें तत्काल अस्पताल ले जाया गया और अब वह खतरे से बाहर हैं.’’ इस घटना के संदर्भ में मामला दर्ज कर लिया गया है.खतरे की आशंका के चलते गवाह को सुरक्षा के लिए एक बंदूकधारी उपलब्ध करवाया गया था. जाधव ने कहा, ‘‘हम यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि घटना के समय बंदूकधारी कहां था?’’पानीपत के पुलिस अधीक्षक राहुल शर्मा ने कहा, ‘‘हम उस दिशा में काम कर रहे हैं और हमें जल्दी ही गिरफ्तारी किए जाने की उम्मीद है.’’ एक महिला ने नारायण पर आरोप लगाया था कि वर्ष 2002 और 2005 के बीच जब वह सूरत स्थित उसके आश्रम में रह रही थी, तब नारायण साईं ने लगातार उसका यौन उत्पीड़न किया था. इसके बाद नारायण के खिलाफ बलात्कार, अप्राकृतिक सेक्स, उत्पीड़न, गलत ढंग से बंदी बनाना समेत भारतीय दंड संहिता की कई धाराओं में मामला दर्ज किया गया. नारायण के खिलाफ सूरत की महिला द्वारा बलात्कार का मामला दर्ज कराए जाने के बाद दिसंबर 2013 में उसे गिरफ्तार किया गया. उसके बाद से वह सूरत जेल में बंद है.फरवरी में अभियोजन पक्ष के एक गवाह को एक व्यक्ति ने जोधपुर में अदालत परिसर में ही चाकू मार दिया था. जनवरी में एक अन्य गवाह की उत्तरप्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. सूरत मामले में तीन और लोगों पर हमले हो चुके हैं.

डीएम को पत्र भेजकर पानी की निकासी की मांग

कांधला। खंड विकास क्षेत्र के गांव चढ़ाव में तालाब से पानी की निकासी न होने के ग्रामीणों के घरों में पानी भरा हुआ है। ग्रामीणों ने खंड विकास के खिलाफ गांव में जमकर हंगामा प्रदर्शन करते हुए जिलाधिकारी शामली को पत्र भेजकर पानी निकासी कराएं जाने की मांग की है। खंड विकास क्षेत्र के गांव चढ़ाव में सात बीघा का एक तालाब स्थित है। तालाब का पानी निकालने के लिए खंड विकास के द्वारा एक नाला प्रस्तावित किया गया है। ग्रामीणों के अनुसार जिन लोगों की जमीन में से नाला होकर गुजरता है। उक्त लोगों को सरकार के द्वारा मुआवजा भी दे दिया गया है। आरोप है कि मुआवजा मिलने के बाद भी उक्त लोग नाले का निर्माण नहीं होने दे रहे हैं। जिसके चलते तालाब पानी से लबालब भर गया है। तालाब का पानी ग्रामीणों के घरों में घुस गया है। जिसके चलते ग्रामीणों को भारी परेशानी का सामना करना प़ड रहा है। ग्रामीणों का आरोप है कि खंड विकास के अधिकारियों को कई बार मामले की शिकायत की गई, लेकिन विभाग का कोई भी अधिकारी इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा है। बुधवार को ग्रामीणों ने ग्राम प्रधान लाला के नेतृत्व में खंड विकास के खिलाफ गांव में हीं जमकर हंगामा प्रदर्शन करते हुए जिलाधिकारी शामली सुजीत कुमार को पत्र भेजकर पानी निकासी कराने के साथ हीं नाला निर्माण कराएं जाने की मांग की है।
इस दौरान ब्रहमसिंह, प्रकाश, तेजपाल, पितांबर, वेदपाल, पप्पू, नवाब, रामधन, सतपाल सहित दर्जनों ग्रामीण आदि मौजूद रहे।

More Articles...

  1. हरियाणा में बिरयानी की दुकानों से लिए जाएंगे सैंपल, गोमांस मिला तो होगी कार्रवाई
  2. घुड़चढ़ी को लेकर दो गुटों में विवाद के बाद पत्थरबाजी, छावनी में तब्दील हुआ गांव
  3. भारत माता की जय' न बोलने पर मुस्लिम को मारा थप्पड़, 125 लोगों पर केस दर्ज
  4. डेरा प्रमुख राम रहीम को रेप केस में मिली 10 साल की सजा
  5. प्रद्युम्न मर्डर केस में एक और स्टूडेंट का नाम, सीबीआई कर सकती है गिरफ्तारी
  6. अब मुंडका-बहादुरगढ़ रूट पर स्पीड से होगा मेट्रो ट्रायल रन
  7. गर्भवती महिला का 22 दिन चला इलाज फिर हुई मौत, अस्पताल ने थमाया 18 लाख का बिल
  8. रोहतक में कबड्डी खिलाड़ी की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या
  9. प्रद्युम्न मर्डर केस: वारदात स्पॉट पर क्राइम सीन रीक्रिएट करेगी सीबीआई,, आरोपी..
  10. मकान में अय्याशी, आपत्तिजनक हालत में मिलीं 3 लड़कियां, ऐसे लाई जाती थीं

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3