शिमला के पास बस खाई में गिरी, 28 की मौत

शिमला। हिमाचल प्रदेश के शिमला जिले में खनारी के पास गुरुवार सुबह एक बस के गहरी खाई में गिर जाने से उसमें सवार 28 लोगों की मौत हो गई।  पुलिस ने बताया कि रेकांग पियो से सोलन जा रही एक बस के गहरी खाई में गिर जाने से 28 लोगों की मौत हो गई और आठ अन्य घायल हो गए। हादसे की जानकारी मिलते ही घटनास्थल पर पहुंचे रामपुर के पुलिस उपाधीक्षक देव कुमार नेगी ने बताया कि राहत एवं बचाव कार्य शुरू कर दिया है। मृतकों के शव निकाले जा रहे हैं। घायलों को खनारी अस्पताल में भर्ती. कराया गया है, जबकि गंभीर रूप से घायल कुछ लोगों की अस्पताल ले जाने के दौरान मौत हो गई। गंभीर रूप से घायल तीन लोगों को आईजीएमसी शिमला भेज दिया गया है।  किन्नौर फेडरेशन पब्लिक सर्विस की इस बस में लगभग 35 यात्री सवार थे। रामपुर के पास चालक के वाहन पर से नियंत्रण खो देने के कारण बस सतलुज नदी के किनारे स्थित पहाड़ी से लगभग 250 मीटर गहरी खाई में गिर गई। दुर्घटनास्थल रामपुर शहर से महज पांच किलोमीटर दूर है।  शिमला के उपायुक्त रोहन चंद ठाकुर ने कहा कि सभी 28 शव बरामद कर लिए गए हैं। उनमें से 11 की पहचान हो गई है। मृतकों में 18 पुरूष, नौ महिलाएं और एक बच्चा शामिल हैं। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस मार्ग पर चलने वाली ज्यादातर बसों में आम तौर पर 35 से 40 यात्री सवार रहते हैं जिनमें से ज्यादातर किन्नौर के स्थानीय लोग, कर्मचारी और छात्र शामिल हैं। राज्यपाल आचार्य देवव्रत और मुख्यमंत्री वीरभद्रसिंह ने बस यात्रियों की मौत पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को मृतकों के परिजनों को और घायलों के इलाज के लिए आवश्यक. सहायता मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं।

दुष्‍कर्म मामला: ठियोग में हालात बेकाबू, पुल‍िस की गाड़ी तोड़ी

शिमला: कोटखाई में सामने आए दुष्कर्म मामले में लोगों का गुस्सा बेकाबू हो गया है। आज कोटखाई व ठियोग सहित आसपास के कई इलाकों के लोगों ने इस मामले पर रोष जताते हुए ठियोग में प्रदर्शन शुरू कर दिया है। ठियोग में हालात पर काबू पाने गए एसपी शिमला सहित अन्य पुलिस कर्मियों के साथ धक्का मुक्की शुरू हो गई है। जबकि हालात बेकाबू होता देख मौके पर बुलाई गई क्यूक रिएक्शन फोर्स को भी लोगों ने मौके से भगा दिया है। ठियोग बस अड्डे के समीप सुबह से हजारों लोग जमा हो गए है। यहां पर लोगों मुख्यमंत्री व पुलिस के खिलाफ जमकर गुस्सा उगल रहे हैं। लोगों का आरोप है कि पुलिस इस मामले में लीपापोती कर रही है।पहले इस मामले में और आरोपियों को पकड़ा और अब कुछ मजदूरों को पकड़कर मामले को दबाया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि चार जुलाई को कोटखाई की रहने वाली गुडिया स्कूल से वापस आते समय लापता हो गई थी। छह जुलाई को उसका शव जंगल में मिला था। इस मामले में गुडिया से पहले दुष्कर्म व फिर हत्या की पुष्टि हुई थी। इसके बाद से मामले को लेकर लोगों में गुस्सा है। उधर, खबर आ रही है क‍ि सीएम ने इस मामले में सीबीआई जांच करवाने की बात कही है। सीएम कुल्‍लू दौरे पर हैं तथा वहां से लौटते ही वह इस मामले को सीबीअाई को सौंपने के आदेश जारी करेंगे।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3