बीफ के चलते मो. अलीमुद्दीन की भीड़ द्वारा की गई हत्या के मामले में बीजेपी नेता गिरफ्तार

रांची: झारखंड के रामगढ़ में तथाकथित गोरक्षकों के हाथों हुई एक शख़्स की हत्या के मामले में दो और गिरफ़्तारियां हुई हैं. अब तक इस मामले में तीन लोगों को गिरफ़्तार किया गया है. गिरफ़्तार शख़्स में एक का नाम नित्यानंद महतो है जो स्थानीय बीजेपी का नेता बताया जा रहा है. नित्यानंद रामगढ़ बीजेपी यूनिट का मीडिया प्रभारी भी है. नित्यानंद को शनिवार को पुलिस ने स्थानीय बीजेपी के दफ़्तर से गिरफ़्तार किया. कुछ लोगों का कहना है कि पुलिस नित्यानंद को बीजेपी दफ्तर से घसीटकर बाहर निकालकर लाई. कहा जा रहा है कि 29 जून को उस भीड़ में ये शख़्स भी शामिल था जिस भीड़ ने मोहम्मद अलीमुद्दीन की हत्या कर दी थी और बस इस शक में कि अलीमुद्दीन की वैन में बीफ़ है. इस हत्या के बाद रामगढ़ में जमकर हंगामा हुआ. गाड़ियां जलाई गईं. शहर में धारा 144 लगाई गई. मामले को सांप्रदायिक रंग देने की भी कोशिश की गई, लेकिन तभी पता चला कि आरोपी और अलीमुद्दीन की पहले से एक-दूसरे को जानते थे और ये मामला आपसी रंजिश का है. अलीमुद्दीन की पत्नी मरीयम ख़ातून ने 12 लोगों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज कराया है. इसमें 9 अब भी फ़रार हैं. वैसे राज्य सरकार ने मामले को बिगड़ता देख मृतक के परिवार को दो लाख के मुआवजे का एलान कर दिया है लेकिन परिवार कार्रवाई चाहता है. बता दें कि सीएम रघुवर दास ने रामगढ़ और गिरिडीह मामले की त्वरित जांच के आदेश दिए हैं. इसके साथ ही सीएम ने शुक्रवार को देवघर में ये ऐलान किया है कि बीफ़ से जुड़ी किसी मामले के सामने आने पर स्थानीय पुलिस स्टेशन के एसएचओ को सस्पेंड कर दिया जाएगा. जानकारी के लिए बता दें कि जिस बीजेपी नेता को गिरफ्तार किया गया है उसे वीडियो फुटेज में अलीमुद्दीन को वैन से निकालते हुए देखा गया है. बाकी अन्य लोगों के खिलाफ वारंट जारी है. पुलिस का कहना है कि अगर यह लोग 48 घंटों में गिरफ्तार नहीं होते या फिर सरेंडर नहीं करते तो इनके खिलाफ कुर्की का काम किया जाएगा. पुलिस को बाकी लोगों की तलाश है. कहा जा रहा है कि इन लोगों का संबंध बजरंग दल और गोरक्षा दल से है.

झारखंडः कोयले की खान धँसने से 7 लोगों की मौत, 50 मजदूर फँसे, बचाव कार्य जारी

रांची : झारखंड में गोड्डा जिले के राजमहल कोयला खदान धंसने से 40-50 लोग एवं वाहन फंस गए हैं। इस हादसे में करीब 50 खनिकों के खदान में फंसे होने की आशंका है और अभी तक सात शव निकाले जा चुके हैं। पुलिस ने आज बताया कि खनन हादसा कल रात हुआ और बचाव अभियान जारी है। मुख्यमंत्री रघुबर दास ने कहा कि उन्होंने बचाव और राहत प्रयासों में तेजी लाने के आदेश दिए हैं। उन्होंने ट्विटर पर कहा कि सभी वरिष्ठ अधिकारियों को मौके पर रहने को कहा गया है। वहीं, पीएम मोदी ने इस हादसे पर दुख जताया है। मृतकों के परिजनों के लिए मुआवजे का ऐलान किया गया है।गोड्डा जिले के इसीएल की राजमहल कोल परियोजना के ललमटिया स्थित भोड़ाय साइट में गुरुवार रात खदान धंसने से करीब 50 लोग 300 फीट खाई में दब गए। अभी भी ये लोग खदान में फंसे हुए हैं। खदान में 20 वोलबो, एक डोजर, छह पोकलेन वोलबो, एक बोलेरो भी धंस गया। रात में कोहरे और ठंड के कारण राहत कार्य व्यापक पैमाने पर शुरू नहीं हो सका। एनडीआरएफ की टीम आने के बाद राहत और बचाव कार्य व्यापक पैमाने पर शुरू होंगे। बताया जाता है कि परियोजना के इंजीनियर ने तीन दिन पहले इसीएल के सीजीएम और सर्वेयर को इस खदान में दरार आने की सूचना दी थी, लेकिन उस पर कोई संज्ञान नहीं लिया गया। घटना की सूचना फैलते ही आसपास के इलाकों में हड़कंप मच गया। बड़ी संख्या में ग्रामीण घटनास्थल पर जुट गये। राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया गया है।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3