कर्नाटक: कांग्रेस नेता की डायरी में 600 करोड़ रुपए नेताओं को देने का जिक्र

नई दिल्ली। कर्नाटक में एक बार फिर कांग्रेस को किरकिरी का सामना करना पड़ा है। करीब एक साल पहले आयकर विभाग ने प्रदेश के कई राजनेताओं के यहां इनकम टैक्स रिटर्न न भरने की वजह से छापेमारी की थी। आयकर विभाग के अधिकारियों ने इन नेताओं के यहां कालेधन होने के शक के आधार पर छापेमारी की। छापेमारी के दौरान आयकर विभाग के अधिकारियों को कांग्रेस के एमएलसी गोविंद राज के यहां से एक डायरी मिली, डायरी में कुछ ऐसे डाटा थे, जिसे देख अधिकारी दंग रह गए। गोविंद राज कांग्रेस के प्रभावशाली नेता माने जाते हैं। बड़े नेताओं के साथ उनका उठना बैठना है। इसके अलावा वह कांग्रेस के लिए चंदा जुटाने में भी माहिर माने जाते हैं। कर्नाटक के अलावा गोविंद राज के संपर्क दिल्ली के आला नेताओं से भी रहते हैं। गोविंद राज को नेताओं से रिश्वत लेने के लिए भी जाने जाते हैं। ऐसे में गोविंद राज के पास से जो डायरी मिली है। उसमें कई लोगों को पैसे देने की बात भी शामिल है। इस डायरी में 600 करोड़ रुपए विभिन्न लोगों को दिए जाने का जिक्र है। इन संदिग्ध नामों में AICC, एपी, एम वोहरा, एसजी ऑफिस, आरजी ऑफिस और डीजीएस प्रमुख हैं। डायरी में एक एंट्री स्टील ब्रिज के तौर पर दर्ज है। जिससे 65 करोड़ रुपए मिलने की बात आई है। इसके अलावा बंगलुरु नगर निगम चुनावों में 7 करोड़ रुपए मीडिया को देने की बात का भी जिक्र है। 11 फरवरी को आयकर विभाग के अधिकारियों ने गोविंद राज को पूछताछ के लिए बुलाया था। उस दौरान उन्होंने दावा किया था कि यह हैंड राइटिंग उऩकी नहीं है। इसके अलावा उनके हस्ताक्षर भी जाली हैं। कांग्रेस ने मोदी सरकार पर बदनाम करने का आरोप मढ़ते हुए डायरी को फर्जी बताया।

शशिकला वीआईपी ट्रीटमेंट मामला: डीआईजी रूपा ने दोहराई जांच की मांग

बेंगलुरु। जेल में बंद एआईएडीएमके प्रमुख वी शशिकला को वीआईपी ट्रीटमेंट मिलने का आरोप लगाने वालीं डीआईजी डी रूपा अपने रुख पर कायम हैं और अब भी मामले की जांच करने की मांग कर रही हैं। वहीं अपने काम पर उठ रहे सवालों के जवाब में उन्‍होंने गुरुवार को कहा कि वह सरकार द्वारा स्‍वीकृत छुट्टी पर थीं। कहा जा रहा है कि उन्‍होंने अपनी ड्यूटी सही तरीके से नहीं निभाई है। आपको बता दें कि डीआईजी रूपा ने एक रिपोर्ट में दावा किया है कि परप्‍पन अग्रहर सेंट्रल जेल में बंद शशिकला को वीआईपी ट्रीटमेंट मिल रहा है। उनके खाने के लिए जेल में एक स्‍पेशल किचन बनाया गया है और इसके लिए उन्‍होंने अधिकारियों को दो करोड़ रुपए की रिश्‍वत दी थी। वहीं इसमें डीजीपी एचएन राव के भी शामिल होने की बात कही गई है। डीआईजी रूपा ने कहा, मैं सरकार द्वारा स्‍वीकृत छुट्टी पर थी और जब मैं वापस आई तो यह पाया। जो भी हो रहा है, उसकी जांच होने दीजिए। वहीं उन्‍होंने इस बात से भी इंकार किया कि रिपोर्ट ऑफिस ऑवर्स के बाद भेजी गई थी। उन्‍होंने कहा कि यह करीब शाम साढ़े चार बजे भेजी गई थी, जो वर्किंग ऑवर्स में शामिल है। गौरतलब है कि डीजीपी एचएन राव द्वारा अपने ऊपर लगे सभी आरोपों से इंकार किए जाने के बाद डीआईजी रूपा का यह स्‍पष्‍टीकरण बयान सामने आया है। डीजीपी एचएन ने कहा है कि रूपा द्वारा लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद हैं।

More Articles...

  1. गणेश विर्सजन के दौरान हादसा, 12 लोग डूबे, 7 के शव बरामद
  2. अब डीजल की भी होम डिलीवरी, बंगलुरु बना पहला शहर
  3. तमिलनाडु: बेंगलूरु-कन्याकुमारी एक्सप्रेस के 11 डिब्बे पटरी से उतरे, 13 घायल
  4. बेंगलुरू: राहुल गांधी ने 'नेशनल हेराल्ड' अखबार का स्मारक एडिशन लांच किए
  5. कर्नाटक: ट्रेन हादसे में दो की मौत, आठ घायल
  6. येदियुरप्‍पा पर दलित के घर होटल का खाना खाने का आरोप, भाजपा ने बताया राजनीति से प्रेरित
  7. फर्जी आईएएस रूबी चौधरी अरेस्ट, किया जमकर ड्रामा!
  8. वायुसेना को मिला 'नेत्र', 200 किमी के दायरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन
  9. पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा- कांग्रेस को नेता नहीं, मैनेजर चाहिए
  10. बेंगलुरु छेड़छाड़ मामला: साली से शादी के लिए जीजा ने रची यौन हमला कराने की साजिश

Subcategories

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3