सिद्धारमैया ने किया मंत्री का बचाव, बोले- इस्तीफा नहीं देंगे जॉर्ज

कर्नाटक सरकार के मंत्री के.जे. जॉर्ज के ख़िलाफ सीबीआई द्वारा एफआईआर दर्ज बेंगलुरु। कर्नाटक में डीएसपी कौशलप्पा गणपति खुदकुशी मामले में राज्य सरकार के मंत्री केजे जॉर्ज पर केस दर्ज होने के बाद सीएम सिद्धारमैया उनके बचाव में आ गए हैं। भाजपा द्वारा इस्तीफे की मांग को सिद्धारमैया ने खारिज कर दिया। उन्होंने इसे राजनीति से प्रेरित बताया है। सिद्धारमैया ने कहा जॉर्ज के इस्तीफे का कोई मामला नहीं है। ये राज्य सरकार और जॉर्ज की छवि को खराब करने के लिए राजनीति से प्रेरित केस है। बतादें मामले में केजे जॉर्ज का नाम सामने आने के बाद भाजपा उनसे इस्तीफे की मांग कर रही है। कर्नाटक भाजपा के प्रमुख बीएस येदियुरप्पा ने जॉर्ज को कैबिनेट से तत्काल हटाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि जॉर्ज अगर मंत्री पद पर बने रहते हैं, तो मामले की निष्पक्ष जांच मुश्किल हो जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि अगर जॉर्ज को तुरंत मंत्री पद से नहीं हटाया गया, तो हम राज्य भर में विरोध प्रदर्शन करेंगे। गौरतलब है कि डीएसपी खुदकुशी मामले में राज्य सरकार के मंत्री केजे जॉर्ज पर एफआईआर दर्ज की गई है। इसके अलावा सीबीआई ने इस मामले में दो आईपीएस अधिकारियों प्रणब मोहंती और एएम प्रसाद पर भी केस दर्ज किया है। कर्नाटक में इस साल सात जुलाई को मदिकेरी में पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) एमके गणपति की रहस्यमयी परिस्थितियों में मौत हो गई थी। खुदकुशी के ठीक एक दिन पहले ही गणपति ने एक निजी चैनल को इंटरव्यू देकर बताया था कि दो पुलिस अधिकारी और एक मंत्री उनका उत्पीड़न कर रहे हैं।

कर्नाटकः टीपू जयंती का विरोध कर रहे 150 से ज्यादा बीजेपी कार्यकर्ता हिरासत में, कोडागू में धारा 144

कर्नाटक। कर्नाटक में आज टीपू सुल्‍तान की जयंती मनाई जा रही है। वहीं इसका विरोध भी शुरू हो गया है। टीपू जयंती सेलिब्रेशन के दौरान मदिकेरी में कर्नाटक स्टेट रोड ट्रांसपॉर्ट की बस पर पत्थर फेंके गए। हालांकि टीपू सुल्‍तान की जयंती पर चल रहे सियासी घमासान को देखते हुए कर्नाटक में सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतेजाम किए गए हैं। कर्नाटक में टीपू सुल्तान यूनाइटेड फ्रंट के सदस्य बेंगलुरु स्थित टीपू सुल्तान महल के बाहर इकट्ठा हुए। वहीं हुबली और कोडागू (कुर्ग) जिले में भाजपा के कार्यकर्ताओं ने ऐंटी-टीपू जयंती में हिस्सा लिया। इस दौरान पुलिस ने कुछ प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया है। टीपू सुल्‍तान की जयंती को लेकर कर्नाटक में सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता की गई है। कोडगु में धारा 144 लागू की गई, लेकिन इसके बावजूद विरोध हो रहा है। मदिकेरी में कर्नाटक स्टेट रोड ट्रांसपॉर्ट की बस पर फेंके गए पत्थर। हालांकि वहां से किसी के घायल होने की खबर नहीं मिली है।दरअसल, इस जयंती का आयोजन रोकने संबंधी एक अंतरिम याचिका को कर्नाटक हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया। साथ ही राज्य सरकार को दिशा-निर्देश दिया कि वह चार हफ्ते में याचिकाकर्ता की अपील के खिलाफ अपनी आपत्ति दर्ज करे। पिछले दिनों केन्द्रीय राज्यमंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने कर्नाटक सरकार के टीपू जयंती मनाने के फ़ैसले की कड़ी निंदा करते हुए टीपू को बलात्कारी और हत्यारा बताया था। कर्नाटक में इससे पहले भी टीपू सुल्तान की जयंती मनाने को लेकर विवाद हो चुका है। भाजपा नेता हेगड़े टीपू को हिंदुओं का दुश्मन बता रहे हैं। भारत के इतिहास में टीपू सुल्तान को एक बहादुर और धर्म निरपेक्ष शासक बताया गया है। टीपू ने18वीं सदी में ब्रिटिश हुकूमत से लोहा लिया था। टीपू के वजीर भी हिन्दू धर्म से थे इतिहास में टीपू की छवि एक धर्मनिरपेक्ष शासक की रही, लेकिन अब कहा जा रहा है कि टीपू सुल्तान ने अपने शासनकाल के दौरान लगभग 800 मंदिर तोड़े थे।

More Articles...

  1. बेंगलुरु: सिलेंडर फटने से ढही इमारत, तीन लोगों की मौत
  2. अचानक चल पड़ा इंजन, ट्रेन ड्राइवर ने 13 किलोमीटर बाइक से पीछा कर रोका
  3. गौरी लंकेश मर्डर केस में SIT ने 3 संदिग्धों के स्केच जारी किए, लोगों से मांगी मदद
  4. कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया ने महिला मेयर को मारा पंच!
  5. बंगलूरू होगा देश का पहला एयरपोर्ट जहां आधार से होगी एंट्री, 10 मिनट में मिलेगा बोर्डिंग पास
  6. कर्नाटक में दर्दनाक सड़क हादसा, 16 लोगों की मौत 55 घायल
  7. सबसे अमीर मंत्रियों में शामिल हैं कांग्रेस के डीके शिवकुमार
  8. कर्नाटकः कभी पत्थर तो कभी सोने-चांदी के थे सिक्के, अब शुरू हो चुका है डिजिटल करेंसी का युग- मोदी
  9. शशिकला वीआईपी ट्रीटमेंट मामला: डीआईजी रूपा ने दोहराई जांच की मांग
  10. गौरी लंकेश मर्डर पर सीएम सिद्धरमैया बोले- अगर परिवार चाहेगा तो सीबीआई जांच पर विचार करेंगे

Subcategories

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3