सिद्धारमैया ने किया मंत्री का बचाव, बोले- इस्तीफा नहीं देंगे जॉर्ज

कर्नाटक सरकार के मंत्री के.जे. जॉर्ज के ख़िलाफ सीबीआई द्वारा एफआईआर दर्ज बेंगलुरु। कर्नाटक में डीएसपी कौशलप्पा गणपति खुदकुशी मामले में राज्य सरकार के मंत्री केजे जॉर्ज पर केस दर्ज होने के बाद सीएम सिद्धारमैया उनके बचाव में आ गए हैं। भाजपा द्वारा इस्तीफे की मांग को सिद्धारमैया ने खारिज कर दिया। उन्होंने इसे राजनीति से प्रेरित बताया है। सिद्धारमैया ने कहा जॉर्ज के इस्तीफे का कोई मामला नहीं है। ये राज्य सरकार और जॉर्ज की छवि को खराब करने के लिए राजनीति से प्रेरित केस है। बतादें मामले में केजे जॉर्ज का नाम सामने आने के बाद भाजपा उनसे इस्तीफे की मांग कर रही है। कर्नाटक भाजपा के प्रमुख बीएस येदियुरप्पा ने जॉर्ज को कैबिनेट से तत्काल हटाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि जॉर्ज अगर मंत्री पद पर बने रहते हैं, तो मामले की निष्पक्ष जांच मुश्किल हो जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि अगर जॉर्ज को तुरंत मंत्री पद से नहीं हटाया गया, तो हम राज्य भर में विरोध प्रदर्शन करेंगे। गौरतलब है कि डीएसपी खुदकुशी मामले में राज्य सरकार के मंत्री केजे जॉर्ज पर एफआईआर दर्ज की गई है। इसके अलावा सीबीआई ने इस मामले में दो आईपीएस अधिकारियों प्रणब मोहंती और एएम प्रसाद पर भी केस दर्ज किया है। कर्नाटक में इस साल सात जुलाई को मदिकेरी में पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) एमके गणपति की रहस्यमयी परिस्थितियों में मौत हो गई थी। खुदकुशी के ठीक एक दिन पहले ही गणपति ने एक निजी चैनल को इंटरव्यू देकर बताया था कि दो पुलिस अधिकारी और एक मंत्री उनका उत्पीड़न कर रहे हैं।

बेंगलुरु: सिलेंडर फटने से ढही इमारत, तीन लोगों की मौत

बंगलुरु हादसे में मलबे से जिंदा निकली मासूम, मां-बाप की मौत, बच्ची को सरकार ने लिया गोद बेंगलुरु कहा जाता है कि जाको राखे साइयां मार सके ना कोय, ऐसा ही कुछ बंगलुरु के इज्जिपुरा इलाके में हुआ. यहां एक सिलेंडर ब्लास्ट से इमारत धराशायी हो गई, बिल्डिंग के मलबे के नीचे कई लोग भी फंस गए. हादसे में 7 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी, लेकिन राहत और बचाव के वक्त एक अद्भुत घटना घटी. मलबा हटाने का काम कर रहे कर्मियों ने यहां से एक मासूम बच्ची की जिंदा निकाला है. इज्जिपुरा में सिलेंडर फटने से हुआ धमाका इतना तेज था कि आसपास की इमारतों का भी कुछ हिस्सा क्षतिग्रस्त हुआ है. बावजूद इसके इस बच्ची को मलबे से जिंदा निकाला गया. बच्ची तो बच गई लेकिन हादसे में इसके मां-बाप की मौत हो गई है. अब सरकार ने इस मासूम को गोद लेने का फैसला किया है. मासूम के शरीर पर हल्की चोट जरूर आई है लेकिन वह पूरी तरह होश में है. हादसे के बाद बचावकर्मी उसे तुरंत इलाज के लिए अस्पताल ले गए, इलाके में राहत और बचाव का काम अब भी जारी है.कर्नाटक के गृहमंत्री ने बताया कि मरने वालों में 5 लोग इसी इमारत में रहते थे जबकि एक अन्य व्यक्ति पड़ोस में रहता था. राज्य सरकार ने मृतकों के परिजनों के 5-5 लाख और घायलों को 50 हजार रुपए के मुआवजे का ऐलान किया है.

More Articles...

  1. गौरी लंकेश मर्डर केस में SIT ने 3 संदिग्धों के स्केच जारी किए, लोगों से मांगी मदद
  2. बंगलूरू होगा देश का पहला एयरपोर्ट जहां आधार से होगी एंट्री, 10 मिनट में मिलेगा बोर्डिंग पास
  3. सबसे अमीर मंत्रियों में शामिल हैं कांग्रेस के डीके शिवकुमार
  4. शशिकला वीआईपी ट्रीटमेंट मामला: डीआईजी रूपा ने दोहराई जांच की मांग
  5. अब डीजल की भी होम डिलीवरी, बंगलुरु बना पहला शहर
  6. बेंगलुरू: राहुल गांधी ने 'नेशनल हेराल्ड' अखबार का स्मारक एडिशन लांच किए
  7. येदियुरप्‍पा पर दलित के घर होटल का खाना खाने का आरोप, भाजपा ने बताया राजनीति से प्रेरित
  8. वायुसेना को मिला 'नेत्र', 200 किमी के दायरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन
  9. पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा- कांग्रेस को नेता नहीं, मैनेजर चाहिए
  10. बेंगलुरु छेड़छाड़ मामला: साली से शादी के लिए जीजा ने रची यौन हमला कराने की साजिश

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3