केरल: आर-पार लड़ाई के मूड में बीजेपी, जेटली पहुंचे आरएसएस कार्यकर्ता के घर

हाल ही में तिरुवनंतपुरम में आरएसएस कार्यकर्ता राजेश की हत्या का मामला राजनीतिक रूप से तूल पकड़ता जा रहा है. रविवार को केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली संबंधित कार्यकर्ता के घर पहुंचे हैं. उनके दौरे को दक्षिणी राज्य में बीजेपी की आर-पार की लड़ाई से जोड़कर देखा जा रहा है. बीजेपी का आरोप है कि केरल में बीजेपी और संघ कार्यकर्ताओं को निशाना बनाकर उनकी हत्याएं की जा रही हैं.केरल की सत्ता पर इस वक्त सीपीएम गठबंधन काबिज है. पिछले कुछ दिनों में यहां आरएसएस कार्यकर्ताओं की हत्याएं हुई हैं. राजेश के घरवालों से मुलाक़ात के बाद जेटली ने कहा, राजेश की बर्बर तरीके से हत्या की गई. मैं उनके घरवालों से मिला. जेटली ने कहा, केरल में ऐसी हिंसा से हमारी विचारधारा को दबाया नहीं जा सकता है. हमारे कार्यकर्ताओं डरने वाले नहीं.रविवार को तिरुअनंतपुरम पहुंचे जेटली आरएसएस के उन अन्य परिवारों से भी मिलने जाएंगे जो कथित तौर पर ऐसी हिंसा का शिकार हुए हैं. बता दें कि राजेश की पिछले दिनों हत्या कर दी गई थी. बीजेपी का आरोप है हत्या के पीछे सीपीएम सदस्यों का हाथ है.

केरल: आरएसएस कार्यकर्ता पर जानलेवा हमला, सीपीएम पर लगा आरोप

कन्नूर केरल में 'लेफ्ट' और 'राइट' का झगड़ा खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. एक ओर जहां केरल में लगातार हो रही राजनीतिक हत्याओं को खिलाफ बीजेपी जनरक्षा यात्रा निकाल रही है तो वहीं दूसरी ओर रविवार रात को एक और संघ कार्यकर्ता पर जानलेवा हमला हुआ है. जानकारी के मुताबिक कन्नूर जिले में थालसेरी के नजदीक मुझाप्पिलांगद में कथित सीपीएम कार्यकर्ताओं ने रविवार को एक आरएसएस कार्यकर्ता पर धारदार हथियार से हमला कर दिया जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया. पुलिस के अनुसार आरएसएस कार्यकर्ता निधीश (28 वर्ष) की हालत गंभीर है और उसे कोझिकोड मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उसके हाथों और टांगों में चोटें आई हैं. स्थानीय बीजेपी इकाई ने अरोप लगाया है कि निधीश पर हुए हमले में सत्तारूढ़ सीपीएम के कार्यकर्ताओं का हाथ है. ताजा जानकारी के मुताबिक पुलिस ने इस मामले में 10 संदिग्धों की पहचान की है, इन पर संघ कार्यकर्ता नीधीश पर जानलेवा हमला करने का शक है. हालांकि पुलिस के पास अभी उनके राजनीतिक संबंधों और अन्य किसी तरह की कोई जानकारी नहीं है. ना ही खबर लिखे जाने तक किसी को इस मामले में हिरासत में लिया गया था. यह हमला भी कन्नूर जिले में ही हुआ है जो कि पिछले कई सालों से इन हमलों के चलते लगातार सुर्खियों में बना रहता है. आपको बता दें कि केरल का कन्नूर जिला राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) (सीपीआई (एम)) के बीच हिंसक प्रतिद्वंद्विता के लिए कुख्यात है. पिछले कई सालों में कई पार्टी कार्यकर्ता, चाहे वो लेफ्ट से हों या राइट से, दिन के उजाले में मौत के घाट उतारे जा चुके हैं. और उनकी हत्याओं पर दोनों ही पार्टियां राजनीति भी करती रही हैं. गौरतलब है कि भारत के सबसे शिक्षित राज्य केरल में भगवा दल अपनी पैठ जमाने की पुरजोर कोशिश में जुटा हुआ है. बीजेपी को उम्मीद है कि वह आगामी चुनाव में केरल की लाल जमीन को भगवा में तब्दील करने में कामयाब होगी. इसी के मद्देनजर सीपीएम के खिलाफ जनसमर्थन हासिल करने के लिए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने केरल में 3 अक्टूबर को 14 दिवसीय जनरक्षा यात्रा की शुरुआत की थी.उत्तर केरल के कन्नूर में RSS और CPM के बीच पिछले चार दशक से संघर्ष चल रहा है. इसे केरल के मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन का गढ़ माना जाता है. बीजेपी का आरोप है कि केरल में सबसे ज्यादा RSS और बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्याएं कन्नूर में हुईं. यहां पर जनरक्षा यात्रा के दौरान यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लव जिहाद को लेकर सूबे की सरकार पर जमकर हमला बोला. साथ ही लव जिहाद के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की.

More Articles...

  1. इसरो रचेगा इतिहास, पहली बार लॉन्च करेगा स्वदेशी स्पेस शटल
  2. गोहत्या मामला: कश्मीर से कन्याकुमारी तक कांग्रेस का असली चेहरा देश के सामने- बीजेपी
  3. आतंकी संगठन आईएस से संबंध के संदेह में 4 हिरासत में
  4. रैगिंग : केरल के 40 छात्रों को कपड़े उतारने, टॉयलेट साफ करने को किया मजबूर, 21 छात्र निलंबित
  5. सुनंदा केस : जांच में सहयोग करेंगे : शशि थरूर
  6. तमिलनाडु में दोपहर 1 बजे तक 42 तो केरल में 45 फीसदी हुई वोटिंग
  7. केरल हादसा: काश! उस मां की बात मान लेते, तो नहीं जाती जानें
  8. केरल : आतिशबाजी से मंदिर में लगी आग, झुलसकर 106 लोगों की मौत
  9. केरल में आरएसएस कार्यकर्ता की मां-बाप के सामने हत्या
  10. केरल पुलिस को मिली श्रीकृष्ण मंदिर उड़ाने की धमकी

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3