जेएनयू में भारतविरोधी नारे पर भड़के अनुपम खेर

इंदौर। दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के परिसर में एक आयोजन के दौरान कथित भारतविरोधी नारेबाजी पर मशहूर अभिनेता अनुपम खेर ने अपनी नाराजगी जाहिर की है। गुस्से का इजहार करते हुए खेर ने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर देश की एकता को खंडित करने का किसी को भी अधिकार नहीं है।
इंदौर में एक नाट्य प्रस्तुति के लिए आए खेर ने शनिवार रात कहा कि भारत की राजधानी के बड़े विश्वविद्यालय जेएनयू में कुछ लोग जमा होकर देश की बर्बादी के नारे आखिर कैसे लगा सकते हैं। यह अभिव्यक्ति की आखिर कौन.सी स्वतंत्रता है, जिससे देश की एकता को खतरा हो। 60 साल के अभिनेता खेर ने कहा कि आप किसी सरकार से नाखुश होकर उसके खिलाफ नारेबाजी कर सकते हैं। लेकिन देश की एकता को खंडित करने का किसी को कोई अधिकार नहीं है। देश की बर्बादी के नारे लगाए जाने के मामले में माफी का सवाल ही नहीं उठता। खेर ने जेएनयू की घटना को लेकर जारी सियासत पर भी नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल कह रहे हैं कि वह जिलाधिकारी (डीएम) से जेएनयू की घटना की जांच कराएंगे। खेर ने पूछा कि क्या केजरीवाल ने इस घटना से संबंधित वीडियो नहीं देखा है? उन्होंने कहा कि देश सागर मंथन की प्रक्रिया से गुजर रहा है और लोगों के चेहरों से नकाब उतर रहे हैं। मुझे लगता है कि इस मंथन से विष के बाद अमृत भी निकलेगा।

गोरक्षा के नाम पर एक बार फिर गुंडागर्दी, लात-घूंसों और बेल्ट से की युवक की पिटाई

उज्जैन,मध्य प्रदेश के उज्जैन में कथित गोरक्षकों ने एक युवक की बेरहमी से पिटाई कर दी. युवक पर गाय की पूंछ काटने का आरोप था. युवक की पिटाई का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. अन्य आरोपियों की तलाश जारी है.मारपीट की यह घटना उज्जैन के पीपलीनाका इलाके की है. मिली जानकारी के अनुसार, शनिवार को कुछ गोरक्षकों ने अपूदा मालवीय नामक युवक को पकड़ लिया. युवक पर गाय की पूंछ काटने का आरोप लगाते हुए उन्होंने अपूदा की बेरहमी से पिटाई शुरू कर दी. अपूदा को लात-घूंसों और बेल्ट से पीटा गया. कुछ लोग मारपीट का वीडियो बना रहे थे. किसी तरह वह गोरक्षकों के चंगुल से बच निकला. अपूदा की शिकायत पर पुलिस ने चेतन और विकास नामक दो आरोपियों को अरेस्ट कर लिया. बाकी आरोपियों की तलाश जारी है.जिवाजीगंज पुलिस स्टेशन के इंचार्ज ओपी मिश्रा ने बताया कि प्राथमिक जांच में मामला गो तस्करी की नहीं जान पड़ता है. जांच में पता चला है कि यह पैसों के लेनदेन का मामला है. इस केस में तीन नामजद आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई, जिसमें दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. एक नामजद और अन्य अज्ञात आरोपियों की तलाश जारी है.

More Articles...

  1. पेंशनरों का मामला अटका, नियमित कर्मचारियों को मिलेगा सातवां वेतनमान
  2. नहीं थम रहा किसानों के खुदकुशी का सिलसिला, अब तक 50 की मौत
  3. जावड़ेकर ने संसद में गतिरोध के लिए कांग्रेस को दोषी ठहराया
  4. निरमोही अखाड़ा के साधुओं ने आसाराम को बताया कलंक, आश्रम पर बोला धावा
  5. मंदसौर से पहले ही हिरासत में राहुल, किसानों से मिलने बाइक से जा रहे थे
  6. शिवराज के मंत्री को चुनाव आयोग ने ठहराया अयोग्य, पेड न्यूज का आरोप साबित (2)
  7. 'मनमोहन-सोनिया-राहुल की चुप्‍पी कांग्रेस पर पड़ी भारी':जयराम
  8. उज्जैन में भारी बारिश का कहर
  9. किसान आंदोलन: कांग्रेस का आज एमपी बंद का एलान, राहुल मंदसौर जाएंगे
  10. मध्य प्रदेश में किसानों का आंदोलन जारी, मुंबई में बिगड़े हालात

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3