ऑल इंडिया डीजीपी कॉन्फ्रेंस के लिए ग्वालियर पहुंचेंगे पीएम मोदी, शिवराज सिंह ने किया स्वागत

ग्वालियर । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज डीपी कॉन्फ्रेंस को संबोधित करने ग्वालियर पहुंचे हैं। महाराजपुरा एयरबेस पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनका अगुवाई की। महाराजपुरा एयरबेस से प्रधानमंत्री एमआई-8 हेलिकॉप्टर से बीएसएफ अकादमी टेकनपुर के हेलिपैड पहुंचेंगे। रविवार और सोमवार दो दिन प्रधानमंत्री ऑल इंडिया डीजी कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर देश की आंतरिक सुरक्षा सहित गंभीर मुद्दों पर मंथन करेंगे।ऑल इंडिया डीजी कॉन्फ्रेंस का शुभारंभ शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने किया। इससे पहले विमानतल पर उनकी अगवानी केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, नगरीय आवास एवं विकास मंत्री माया सिंह सहित अन्य अधिकारियों ने की। सभी राज्यों के डीजी और अर्धसैनिक बलों के प्रमुख अधिकारियों की उपस्थिति में डीजी कॉन्फ्रेंस का पहला दिन पूरा हुआ। शनिवार की रात मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू भी ग्वालियर पहुंचेंगे। बीएसएफ अकादमी में प्रधानमंत्री सुबह 9 बजे से डीजी कॉन्फ्रेंस में शामिल होंगे। इस बैठक में देश से उच्च पुलिस अधिकारी सुरक्षा संबंधित मामलों को साझा करते हैं। ऑल इंडिया डीजी कांफ्रेंस का शुभारंभ शनिवार को केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने किया। सभी राज्यों के डीजी और अर्द्धसैनिक बलों के प्रमुख अधिकारियों की उपस्थिति में डीजी कांफ्रेंस का पहला दिन पूरा हुआ। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय गृहराज्य मंत्री किरण रिजिजू भी मौजूद रहेंगे। इस बैठक में देश से उच्च पुलिस अधिकारी सुरक्षा संबंधित मामलों को साझा करते हैं। इससे पहले यह कांफ्रेंस 2014 में गुवाहाटी, 2015 में कच्छ के रण (गुजरात) और 2016 में हैदराबाद में हुई थी।

एंटीबायोटिक इंजेक्शन लगाने से 50 महिलाओं की जान खतरे में,पांच की हालत नाजुक

ग्वालियर। ग्वालियर के एक अस्पताल में 40 से अधिक गर्भवती महिलाओं के अचानक से गंभीर रुप से बीमार हो जाने का मामला सामने आया है। बताया जाता है कि ग्वालियर स्थित कमलाराजा अस्पताल के पोस्ट ऑपरेटिव वार्ड में रविवार की रात को इन महिलाओं को गलत एंटीबायोटिक इंजेक्शन लगाए जाने से इनकी हालत बिगड़ गई। जानकारी के मुताबिक इंजेक्शन लगाने के बाद महिलाएं बुरी तरह से ठंड से कांपने लगीं और गंभीर रुप से बीमार पड़ गईं। जब परिजनों ने इसकी गुहार चिकित्सकों से लगाईं तो उन्हें यह कहकर डांट कर वहां से भगा दिया गया कि इंजेक्शन लगाने पर ठंड तो लगती ही है। जब महिलाओं की हालत ज्यादा खराब होने लगी तो परिजनों ने अस्पताल परिसर में ही हंगामा शुरु कर दिया। इसके बाद जेएएच प्रभारी अधीक्षक संदीप चंदेल और प्रभारी विभागाध्यक्ष वृंदा जोशी मौके पर पहुंचे। उनमें से 5 गंभीर रुप से बीमार महिला को आईसीयू रेफर कर दिया गया है। मालूम हो कि, सिविल ड्रेस में आए दो युवक ने रविवार रात 9 से 9.30 बजे के बीच 56 में से 40 महिलाओं को एंटीबायोटिक एमपी सिलिंन का इंजेक्शन लगाया जिसके कुछ समय बाद उनकी हालत बिगड़ने लगी। सूत्रों के मुताबिक एमपी सिलिंन इंजेक्शन डिस्टल वॉटर के साथ दिया जाता है जबकि महिलाओं को इसे नॉर्मल वॉटर के साथ दे दिया गया।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3