16 साल में शादी, 18 में तलाक, मोदी से कहा- लागू हो यूनिफॉर्म सिविल कोड

पुणे। देशभर में ट्रिपल तलाक को खत्‍म करने की मांग तेजी पकड़ रही है वहीं दूसरी तरफ म‍ुस्लिम संगठन यूनिफार्म सिविल कोड का विरोध कर रहे हैं। इस बीच एक मुस्लिम लड़के अपने मासूम्‍ बच्‍चे को लेकर पीएम से गुहार लगाने पहुंची है कि वो देश में इस कानून को लागू करें।
बरामती की रहने वाली 18 वर्ष की आर्शिया की शादी महज 16 वर्ष की उम्र में एक सब्‍जी बेचने वाले मोहम्‍मद काजिम से हुई थी। उनका एक बच्‍चा भी हुआ लेकिन सिर्फ दो साल शादीशुदा जिंदगी जीने के बाद काजिम ने एक कागज पर तलाक, तलाक, तलाक लिखकर आर्शिया को छोड़ दिया। आर्शिया इसे मानने को तैयार नहीं थी लेकिन उसे जबरन अपने 8 माह के बच्‍चे के साथ घर छोड़ने को मजबूर कर दिया गया।
अब आर्शिया ने पीएम मोदी से गुहार लगाई है कि वो यूनिफार्म सिविल कोड लागू कर मुस्लिम महिलाओं को इस ट्रिपल तलाक के श्राप से मुक्ति दिलाएं जिसने उनकी पीढ़‍ियों को बर्बाद कर रखा है।
एक अंग्रेजी अखबार के अनुसार आर्शिया कहती हैं, मैं पीएम से अपील करती हूं कि मेरे जैसी महिलाओं की मदद करें और ट्रिपल तलाक की इस परंपरा को खत्‍म करें जिसने अनगिनत महिलाओं की जिंदगी बर्बाद कर दी है। आर्शिया के अनुसार उसे पति का ट्रिपल तलाक का नोटिस मिला जिसे उसने नहीं माना है और अब वो फैमिली कोर्ट में इसे लेकर जाएगी।
आर्शिया के अनुसार, मुझे कहा गया था कि शादी के बाद भी मैं अपनी पढ़ाई जारी रख सकुंगी लेकिन यह वादा निभाया नहीं गया। जब शादी हुई तब मैंने 12वीं पास की थी, अब मैं अपनी पढ़ाई फिर शुरू करूंगी और अपने पैरों पर खड़ी होकर दिखाऊंगी।'
आर्शिया के पिता निसार बागवान कहते हैं कि सरकार को यूनिफार्म सिविल कोर्ड के कदम जरूर उठाना चाहिए। मेरी बेटी कि तरह और किसी ने दुख नहीं उठाना चाहिए। मैं एक गरीब सब्‍जी बेचने वाला हूं और बेटी की पढ़ाई पूरी होने से पहले उसकी शादी करके सबसे बड़ी गलती कर दी।'
मुस्लिम महिलाओं के हक के लिए लड़ा रहा मुस्लिम सत्‍यशोधक मंडल भी आर्शिया के समर्थन में आया है और मंडल प्रमुख शमशुद्दीन तंबोली के अनुसार कुछ लोगों द्वारा यूनिफार्म सिविल कोड को लेकर गलत बातें फैलाई जा रही है। मुस्लिमों को डर है कि सरकार इस कानून के माध्‍यम से हिन्‍दुत्‍व थौंपेगी।

पुणे: निर्माणाधीन इमारत का हिस्सा गिरा, 10 लोगों की मौत

पुणे बलवाड़ी इलाके में शुक्रवार (29 जुलाई) को एक निर्माणाधीन इमारत का स्लैब गिरने से कम से कम 10 मजदूरों की मौत हो गई। पुलिस उपायुक्त (जोन-तीन) बी टेली ने बताया कि हादसा उस वक्त हुआ जब मजदूर निर्माणाधीन आवासीय इमारत की 13वीं मंजिल पर काम कर रहे थे। उन्होंने बताया कि बचाव कार्य जारी है। दमकल विभाग के एक अधिकारी के अनुसार घटना आज (शुक्रवार, 29 जुलाई) सुबह लगभग 11 बजे ‘प्राइड एक्सप्रेस’ नामक इमारत में हुर्ई। उन्होंने कहा, ‘हमारे कर्मी मलबा हटाने का काम कर रहे हैं ताकि वे देख सकें कि अंदर अन्य लोग फंसे हैं कि नहीं।’ घटना के वक्त वहां करीब 13 से 14 मजदूर काम कर रहे थे। पुलिस इमारत के मालिक और ठेकेदार समेत अन्य लोगों की जानकारी प्राप्त करने की कोशिश कर रही है। मामले पर विस्तृत जानकारी आनी अभी बाकी है। पुणे के मेयर प्रशांत जगताप ने बताया, 'हमने इस घटना को गंभीरता से लिया है. अब हमने ऐसे सभी निर्माण स्थलों का पता लगाने के लिए निरीक्षण का आदेश दिया है.' इस बात की जानकारी नहीं है कि काम कर रहे मजदूरों ने सुरक्षा उपकरण पहने थे या नहीं. इस बीच, पुलिस इस हादसे की जांच के लिए इमारत के मालिकों और ठेकेदार से पूछताछ कर रही है.

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3