अंडमान की बारिश में फंसे हावड़ा के नौ लोग

हावड़ा, अंडमान व निकोबार में हो रही भारी बारिश के कारण वहां बंगाल के लगभग 800 पर्यटक फंसे हुए हैं, इनमें हावड़ा के भी तीन परिवार के नौ लोग शामिल हैं. अंडमान व निकोबार द्वीप समूह में स्थिति इतनी गंभीर है कि पर्यटकों के जीवन पर संकट सा छा गया है़ ऐसे में हावड़ा के शिवपुर के रहनेवाले इस परिवार के अन्य परिजनों की स्थिति काफी खराब है. हावड़ा के शिवपुर में रहनेवाले मिहिर जाना, सुलता जाना, अनिका जाना, देवब्रत जाना, सुमित्रा जाना, कौशिक गोंड, रूमा गोंड, अलोलिका गोंड व सोमेश्वर गोंड घूमने के लिए अंडमान गये हुए थे. मंगलवार को यह परिवार अंडमान निकोबार गया था और उसी दिन, वहां मौसम बहुत खराब हो गया. प्राप्त जानकारी के अनुसार नौ दिसंबर तक मौसम में परिवर्तन के आसार नहीं दिखाई दे रही है, इनके परिजन चिंतित है और सरकार की ओर आस लगा कर बैठे हैं. बारिश के कारण सभी फ्लाईट के कैंसिल होने से परिस्थिति और भी गंभीर हो गई है़. जानकारी मिली है कि पर्यटकों के लिये खाना, पानी और रहने की समस्या से और अधिक परेशानी का सामना करना पर रहा है़ शिवपुर के रहने वाले नौ लोग मंगलवार को अंडमान घूमने गये थे़, मौसम खराब होने से फोन पर कभी-कभी परिवार वालो से बात हो रही है़. प्राप्त जानकारी के अनुसार नौ दिसंबर तक मौसम में परिवर्तन के आसार नहीं दिखाइ दे रही है़ इनके परिजन चिंतित है और सरकार की ओर आस लगा कर बैठे हैं. बारिश के कारण सभी फ्लाईट के कैंसिल होने से परिस्थिती और भी गंभीर हो गई है़. गौरतलब है कि अंडमान-निकोबार के हैवलॉक द्वीप पर भारी बारिश और तूफान की वजह से फंसे 1400 पर्यटक फंस गए थे. भारतीय नौसेना इन सभी को बचाने के लिए अभियान चलाया है, नौसेना ने इन पर्यटकों को बचाने के लिए अपने तीन जहाज रवाना किए हैं.

भारत, अमेरिका और जापान के नेवल एक्सरसाइज से घबराया चीन

कोलकाता। विवादित दक्षिण चीन सागर में चीन की बढ़ती सैन्य मौजूदगी के बीच भारत, अमेरिका और जापान की नौसेनाओं की संलिप्तता वाला मालाबार नौसैन्य अभ्यास बंगाल की खाड़ी में शुरु हो गया है। यूएस रियर एडमिरल डब्ल्यूडी ने बताया कि इस युद्धाभ्यास में 75 एयरक्राफ्ट शामिल हुए हैं। उम्मीद है कि समुद्री राष्ट्र इस युद्धाभ्यास को देख रहे होंगे। इस सालाना अभ्यास में बड़ी संख्या में तीनों देशों के विमान, नौसना की परमाणु पनडुब्बियां और नौसैन्य पोत शामिल हुए हैं। यह अभ्यास ऐसे समय हो रहा है जब सिक्किम क्षेत्र में भारत एवं चीन की सेनाओं के बीच बड़ा सैन्य गतिरोध पैदा हो गया है और दक्षिण चीन सागर में बीजिंग अपनी नौसैन्य मौजूदगी को बढ़ा रहा है। मालाबार सैन्य अभ्यास का लक्ष्य सामरिक रूप से महत्वपूर्ण भारत प्रशांत क्षेत्र में तीनों नौसेनाओं के बीच गहरे सैन्य संबंध स्थापित करना है। भारत और अमेरिका साल 1992 के बाद से नियमित रूप से सालाना अभ्यास कर रहे हैं। बीजिंग मालाबार अभ्यास के मकसद को संदेह की नजर से देखता है क्योंकि उसे लगता है कि यह अभ्यास भारत प्रशांत क्षेत्र में उसके प्रभाव को रोकने की कोशिश है। इस अभ्यास में समुद्री गश्त एवं टोह अभियान, सतह एवं पनडुब्बी रोधी युद्ध जैसी गतिविधियां शामिल होंगी। इसमें चिकित्सकीय अभियान, नुकसान को नियंत्रित करना, विशेष बल अभियान, विस्फोटक आयुध निपटान और हेलीकॉप्टर अभियान भी शामिल होंगे। यह अभ्यास 10 जुलाई से लेकर 17 जुलाई तक चलेगा। इस युद्धाभ्यास में भारत-अमेरिका-जापान की नौसेना शामिल हैं। चेन्नई तट से लेकर बंगाल की खाड़ी तक ये युद्धाभ्यास होगी, जिसमें 20 जंगी जहाज, दर्जनों फाइटर जेट्स, 2 सबमरीन, टोही विमान शामिल होंगे। भारत की ओर से इस अभ्यास का सबसे बड़ा आकर्षण होगा एयरक्राफ्ट कैरियर आइएनएस विक्रमादित्य, 2013 में नेवी शामिल किए जाने के बाद मिग-29 फाइटर जेट्स से लैस आईएनएस विक्रमादित्य इस तरह के पूर्ण सैन्य अभ्यास में पहली बार शामिल हो रहा है।

More Articles...

  1. पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी में गाय ले जाते दो लोगों की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या की
  2. सुप्रीम कोर्ट में 'ऊंची जाति' वाले जजों की चलती है : कोलकाता हाईकोर्ट जज ने लगाया आरोप
  3. बंगाल के राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी ने की गृहमंत्री से फोन पर बात
  4. कैपिटल एक्सप्रेस पटरी से उतरे दो डिब्बे पटरी से उतरे, 2 लोगों की मौत और 6 घायल
  5. बीजेपी नेता के बिगड़े बोल, कहा- अब सीबीआई कर रही तापस पाल का रेप
  6. ममता के फ्लाइट विवाद पर इंडिगो की सफाई, कहा- कम नहीं था फ्यूल, एयर ट्राफिक की वजह से हुई देरी
  7. चिट फंड घोटाला: टीएमसी सांसद सुदीप बांदोपाध्याय से सीबीआई की पूछताछ
  8. जहरीली शराब पीने से बंगाल में 6 की मौत
  9. नोटबंदी: प्रिंटिंग प्रेस कर्मचारी बोले, ‘12 घंटे की शिफ्ट नहीं मंजूर’
  10. बंगाल की तरफ जो आंख उठाएगा, आंख निकाल ली जाएगी :अभिषेक

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3