मेडिकल फैसिलिटीज के लिए राजस्थान को मिला दूसरा स्थान

जयपुर बेहतरीन आईपीडी सेवाएं देने के लिए राजस्थान को देश में दूसरा स्थान हासिल हुआ है। केन्द्रीय चिकित्सा स्वास्थ्य राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते एवं अनुप्रिया पटेल ने राजस्थान में मरीजों को बेहतर आईपीडी सेवायें प्रदान करने पर ट्राफी एवं प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया है। प्रदेश को यह अवार्ड मध्यप्रदेश के इन्दौर में ‘गुड, रेप्लीकेवल प्रैक्टिसेज एंड इनोवेशन इन पब्लिक हैल्थ केयर सिस्टम’ विषय पर आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में दिया गया। परियोजना निदेशक मातृत्व स्वास्थ्य डॉ. तरुण चौधरी एवं राज्य कार्यक्रम प्रबंधक एनएचएम डॉ. जलज विजय ने यह अवार्ड प्राप्त किया । चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सराफ ने इस उपलब्धि पर विभाग की टीम को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि विभाग की ओर से आमजन को बेहतर चिकित्सा स्वास्थ्य सेवाएं सुलभ कराने के लिये हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। प्रमुख शासन सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य वीनू गुप्ता भी कार्यक्रम में मौजूद रहीं। उन्होंने बताया कि विभाग द्वारा बेहतर चिकित्सा सेवायें मुहैया कराने के लिये भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना, राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम, इंट्रीग्रेटेड एम्बूलेंस योजना जैसे विभिन्न जनकल्याणकारी कार्यक्रम संचालित किए जा रहे हैं।

जयपुर : आनंदपाल के अंतिम संस्कार को लेकर अभी भी असमंजस बरकरार

जयपुर: करीब एक पखवाड़ा पहले पुलिस मुठभेड़ में मारे गये कुख्यात अपराधी आनंदपाल सिंह के अंतिम संस्कार को लेकर अभी भी असमंजस्य के हालात बने हुए हैं. नागौर के पुलिस अधीक्षक पारिस देशमुख ने आज कहा कि अभी स्पष्ट नहीं है कि आनंदपाल सिंह का अंतिम संस्कार कब होगा. यह परिजन तय करेंगे. उन्होंने कहा कि पुलिस प्रशासन में अंतिम संस्कार को लेकर कोई दूसरा नोटिस नहीं दिया है. गौरतलब है कि मृतक की मां और राजपूत संगठन राजस्थान सरकार से पुलिस मुठभेड़ की जांच सीबीआई से करवाने, अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए जेल में बंद मृतक के दो भाईयों को जमानत देने समेत अन्य मांगें पूरी नहीं होने तक आंनदपाल सिंह का अंतिम संस्‍कार करने से इनकार कर दिया है. उन्होंने कहा कि इस प्रकरण में राजस्थान सरकार की हठधर्मिता के विरोध में एवं मामले की सीबीआई से जांच कराने की मांग को लेकर आज राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी , मानवाधिकार आयोग सहित अन्य संवैधानिक संगठनों के मुखियाओं को ज्ञापन भेजे गये है। परबतसर के अतिरिक्त जिला सत्र न्यायालय द्वारा आनंदपाल ंिसंह के अंतिम संस्कार के लिए शपथ पत्र देने की शर्त पर उसके भाई मंजीत सिंह की अंतिरम जमानत पर निर्णय देने के संबंध में उन्होंने कहा कि मंजीत सिंह की ओर से शपथ पत्र नहीं दिया जायगा। वहीं दूसरी ओर नागौर के पुलिस अधीक्षक परिस देशमुख ने आज फोन पर कहा कि आनंदपाल के अंतिम संस्कार को लेकर जिला प्रशासन का उनके परिजनों से लगातार संपर्क बना हुआ है और इस मुद्दे पर मृतक के परिजनों द्वारा शीघ्र ही अंतिम निर्णय लेने की उम्मीद है। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन ने परिजनों की मांग पर डीप फ्रीजर उपलब्ध करा दिया गया है जिसमें आनंदपाल का शव रख दिया गया है। गौरतलब है कि कुख्यात अपराधी आनंदपाल सिंह की गत 24 जून की रात को पुलिस मुठभेड में मृत्यु हो गयी थी और उसके बाद से ही उसके परिजनों द्वारा सीबीआई की जांच कराने की मांग को लेकर अंतिम संस्कार नहीं किया जा रहा है।

More Articles...

  1. सात दिन में दूसरी बार गैंगस्टर आनंदपाल के शव का पोस्टमार्टम हुआ
  2. बेरहमी से कर दी महिला की हत्या, प्रोपर्टी विवाद का शक
  3. पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वालों को बचा रहे हैं वसुंधरा के करीबी - तिवाड़ी
  4. गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने का सुझाव
  5. राजस्थान में अब तक 10 जनों को लील चुका हैं स्वाइन फ्लू
  6. चोखी ढाणी में देखा ये सब कुछ,दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष ने कराई रिपोर्ट दर्ज
  7. इस कारण फंदे से लटकी मिली महारानी कॉलेज हॉस्टल की छात्रा
  8. एक साथ महिलाओं ने चलाई कारें, बन गया एक रिकार्ड
  9. शिवालयों में उमड़े भक्तगण, भोलेनाथ का हो रहा पंचामृत और दूध से अभिषेक
  10. भंसाली से मारपीट: विवाद की राह पर सफलता तलाशने के 'साइड-इफेक्ट'

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3