दबंगों ने दलितों को ट्रैक्टर से कुचला, तीन मरे

जयपुर  राजस्थान के नागौर जिले में भूमि विवाद के चलते कुछ दबंगों ने 3 दलितों को ट्रैक्टर से कुचल दिया। इस घटना में महिलाओं समेत कई अन्य भी घायल हो गए हैं, जिनका इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है। दबंगों के डर से सैकड़ों दलितों ने अपना घर छोड़ दिया है। मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए क्षेत्र में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।
इस मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। मामला डांगवा का है। यहां के जाट समुदाय और दलितों के बीच दशकों पुराना भूमि विवाद चल रहा है। गुरुवार को दलितों की तरफ से की गई गोलीबारी में एक रसूखदार व्यक्ति की मौत हो गई थी, जिसके बाद कई दलितों को ट्रैक्टर से कुचल दिया गया, जिनमें से तीन लोगों की मौत हो गई और महिलाओं समेत कई अन्य घायल हो गए। इस दौरान दलित महिलाओं से बदसलूकी भी की गई।
वहीं, राज्‍य के गृह मंत्री गुलाब चंद्र कटारिया ने कहा कि कोई ऐसा जादू तो नहीं है हमारे पास कि तुरंत आदमी को ढूंढ ले। हम आरोपियों की तलाश कर रहे हैं।

गहलोत ने नेताजी के परिवार की जासूसी को बताया अफवाह

जयपुर। नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के परिवार की जासूसी के मामले पर एक ओर जहां देश में बहस छिड़ी हुई है वहीं राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने नेताजी के परिवार की जासूसी को सिर्फ अफवाह बताया है। गहलोत ने सोशल साइट पर पूरी जानकारी सार्वजनिक करने की मांग की। पूर्व सीएम नेे कहा कि नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के परिवार की जासूसी को लेकर गलत अफवाहें फैलाई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि ऐतिहासिक तथ्यों की गैरजिम्मेदार तरीके से व्याख्या हो रही है। जो आरोप लगाए जा रहे हैं, वे पूरी तरह से बेबुनियाद हैं। इससे संबंधित पूरी जानकारी तथ्यात्मक रूप से सार्वजनिक की जानी चाहिए ताकि सच्चाई सभी के सामने आ सके। गौरतलब है कि आईबी की लीक हुई रिपोर्ट से पता चला है कि पूर्व प्रधानमंत्री पं जवाहर लाल नेहरू ने नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के परिवार की दो दशक तक जासूसी करवाई थी। मामले के सामने आने के बाद भाजपा के कांग्रेस पर हमले तेज हो गए है।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3