रोडवेज बस और ट्रैक्टर में जोरदार टक्कर, एक की मौत

जयपुर जोधपुर जिले के बालेसर पुलिस थाना क्षेत्र में बीती रात रोडवेज बस और ट्रैक्टर के बीच हुई जोरदार टक्कर में ट्रैक्टर चालक की मौत हो गई। जानकारी के अनुसार घायल ट्रैक्टर चालक को देर रात जोधपुर रैफर किया गया था जहां आज सुबह इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। बालेसर पुलिस ने इस बारे में रोडवेज बस चालक के खिलाफ मामला दर्ज किया है। आज बालेसर पुलिस ने कार्रवाई कर शव परिजनों को सौंपा। बालेसर पुलिस ने बताया कि क्षेत्र का रहने वाला 35 वर्षीय मनोहर सिंह पुत्र उदयसिंह रात को ट्रैक्टर चलाते हुए बालेसर से ही गुजर रहा था। तब एक ढाणी के पास में सामने से आ रही रोडवेज बस ने ट्रैक्टर को चपेट में ले लिया। इस पर गंभीर हालत में उसे जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल में रैफर किया गया, जहां आज सुबह उसकी मौत हो गई। बालेसर पुलिस ने बताया कि शव का पोस्टमार्टम करवा परिजन को सौंप दिया है। रोडवेज बस चालक के खिलाफ लापरवाही से वाहन चलाने का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है।

चेन्नई पुलिस ये गलती नहीं करती, तो बच सकती थी सीआई की जान

इंस्पेक्टर की सर्विस रिवॉल्वर से उन्हे ही गोली मारी जयपुर अपराधी जहां पु​लिस पर आए दिन फायरिंग कर फरार हो रहे हैं। वहीं पुलिस की कार्यशैली भी कई बार सवालों के घेरे में आ रही है। यदि चेन्नई पुलिस एक गलती नहीं करती तो वह अपने सीआई पेरियापंडियान को शहीद होने से बचा सकती थी। दरअसल आज सुबह पाली के रामपुरा गांव के नजदीक की गई चेन्नई पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठ रहे हैं। इस कार्रवाई में चेन्नई पुलिस के एक सीआई के पेरियापंडियान शहीद हो गए। चेन्नई पुलिस टीम ने अपनी इस कार्रवाई की सूचना स्थानीय पुलिस को नहीं दी थी। जानकारों का मानना है कि यदि स्थानीय पुलिस को साथ ले लिया जाता, तो इतनी बड़ी वारदात होने से बच सकती थी। मामले के तहत जब चेन्नई पुलिस की टीम ने चोरी के आरोपी नाथूलाल को पकड़ने के लिए दाबिश दी तब स्थानीय पुलिस या अन्य कोई स्थानीय व्यक्ति वहां मौजूद ही नहीं था। मौके पर भीड़ के बीच चेन्नई पुलिस टीम के कुल सात सदस्यों में से केवल पांच ही थे। इस दौरान जब आरोपी को पकड़ने के लिए सीआई ईंट-भट्टे के अंदर पहुंचे उस दौरान टीम के दो सदस्य गाड़ी में ही बैठे हुए थे, वे अंदर गए ही नहींं। यह सवाल भी पूछे जा रहे हैं कि केवल पांच सदस्य ही आरोपी को पकड़ने क्यों गए थे? गौरतलब है कि जिस आरोपी ना​थूलाल को पकड़ने सीआई पेरियापंडियान पाली आए थे। आरोपी पर लाखों रुपए की ज्वैलरी चोरी करने का आरोप हैं। दरसअल नाथूलाल चेन्नई की एक ज्वैलरी शॉप में नौकरी करता था। लेकिन कुछ दिन पूर्व उसने वहां चोरी की वारदात को अंजाम दिया और भागकर पाली स्थित अपने गांव में आ गया था।

More Articles...

  1. लश्कर-ए-तैयबा के 8 आतंकियों को आजीवन कारावास, सभी पर 11-11 लाख का जुर्माना
  2. जैसलमेर में अनियंत्रित होकर पलटी बस, 5 लोगों की मौत, कई घायल
  3. 'पद्मावती' पर विहिप का तीखा बयान, केंद्र रोके फिल्म नहीं तो 'जो होगा इतिहास देखेगा'
  4. आत्मा के खौफ के कारण बदला इस किले का नाम, अब लटकी मिली लाश
  5. 'ड्यूटी टाइम खत्म' बोलकर पायलट ने फ्लाइट उड़ाने से किया इंकार, बस से गए यात्री
  6. जयपुर के स्कूल को मिला था बम ब्लाट होने का ई-मेल, जांच में गलत निकली बात
  7. विवादित बिल: आपस में भिड़े सरकार के मंत्री-विधायक, सदन 1 बजे तक स्थगित
  8. नपुंसक नहीं है फलहारी बाबा,जांच में आया सामने
  9. क्या राजस्थान में है राम रहीम की राजदार हनीप्रीत, मोबाइल ट्रेस!
  10. जयपुर बवाल: 84 घंटे बाद कर्फ्यू में दो घंटे की ढील, असमाजिक तत्वों पर रहेगी नजर

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3