भीषण सड़क हादसे में नौ लोगों की मौत, 25 से ज्यादा लोग घायल

जयपुर। राजस्थान के उदयपुर में शनिवार सुबह प्रतापनगर बलीचा बाईपास पर नेला गांव के निकट तीर्थयात्रियों की वीडियो कोच बस नाले में जा गिरी। यह हादसा दो मोटरसाइकिल सवारों को बचाने के कारण हुआ। हादसे में 6 महिलाओं सहित 9 तीर्थयात्रियों की मौत हो गई तथा 15 से अधिक घायल हो गए। सूचना पर गोवर्धन विलास पुलिस ने सभी घायलों और मृतकों को निकटवर्ती अस्पताल पहुंचाया। घायलों में से 4 की हालत गंभीर बताई गई है। पुलिस ने बताया कि सभी तीर्थयात्री अहमदाबाद से हरिद्वार जा रहे थे। बलीचा बाइपास पर सीनियर सेकंडरी स्कूल से आगे बस का चालक मोटरसाइकल चालक को बचाने के प्रयास में अनियंत्रित हो गया और बस सड़क से उतरकर पुलिया से नीचे जा गिरी। अधिकांश लोग बस में सोये हुए थे। हादसे के बाद कुछ लोग बस में दब गए जिन्हें लोगों ने मशक्कत कर बस के कांच फोड़ कर बाहर निकाला। इधर हादसे की सूचना के बाद अस्पताल में मदद के लिए कई लोग पहुंच गए। पुलिस अभी मृतक और घायलों के नाम पता करने में जुटी है। घायल लोगों में अधिकतर की उम्र 45 साल से अधिक बताई जा रही है। घटना पर शोक पीएम मोदी ने ट्वीट करते हुए शोक पीड़ित परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए दुख प्रकट किया। वहीं राजस्थान की सीएम वसुंधरा राजे ने भी दुर्घटना पर शोक व्यक्त करते हुए लिखा- 'उदयपुर सड़क दुर्घटना में मृतकों की आत्मा की शांति और शोक संतप्त परिवार को आघात सहने की शक्ति प्रदान करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना करती हूँ। पीड़ितों को हर संभव सहायता पहुंचाने के निर्देश दिए गए हैं।'

34 मामलों के आरोपी हिस्ट्रीशीटर को गोलियों से किया छलनी, मौके पर मौत

जयपुर गैंगवार और अपराधियों के बुलंद हौंसले पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़े कर रहें हैं। नयी गैंगवार की घटना राजस्थान के चुरू क्षेत्र में हुई हैं। जहां बीती रात्रि को दो गाड़ियों में सवार होकर आए बदमाशों ने हिस्ट्रीशीटर महेन्द्र गोदारा की सरेआम गोली मारकर हत्या कर दी। घटना चुरू के कड़वासरा बस स्टैंड की हैं। मृतक गोदारा पर चुरू और सीकर जिले के विभिन्न थानों में 34 मामले दर्ज थे। पुलिस के अनुसार उन्हें सूचना मिली थी बस स्टैण्ड पर एक व्यक्ति का शव पड़ा है। इसके बाद मौके पर पहुंच पुलिस ने शव कोे कब्जे में लिया तो उसकी पहचान हिस्ट्रीशीटर महेन्द्र गोदारा के रुप में हुई। शेखावटी क्षेत्र में गैंगवार ​का ​इतिहास पुराना है। लेकिन सरेआम गोलीबारी के कारण स्थानीय लोगों मे दहश्त और गुस्से का माहौल हैं। लोगों का कहना है पुलिस का डर अपराधियों में बिल्कुल नहीं है। गैंगवार वर्चस्व के कारण हो रहा है। गौरतलब है गैंगस्टर आनंदपाल का कुछ दिन पूर्व ही चुरू के मालासर गांव में पुलिस ने एनकाउंटर ​किया था। आनंदपाल गैंग का भी इस क्षेत्र में काफी भय था।

More Articles...

  1. राजस्थान में नदी के तेज बहाव में बह गए कुशलगढ़ एसडीएम, गाड़ी का ड्राइवर बचा
  2. आनंदपाल जैसे गैंगस्टर के लिए धड़कता है राजपूतों का दिल?
  3. मेडिकल फैसिलिटीज के लिए राजस्थान को मिला दूसरा स्थान
  4. जयपुर : आनंदपाल के अंतिम संस्कार को लेकर अभी भी असमंजस बरकरार
  5. सात दिन में दूसरी बार गैंगस्टर आनंदपाल के शव का पोस्टमार्टम हुआ
  6. बेरहमी से कर दी महिला की हत्या, प्रोपर्टी विवाद का शक
  7. पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वालों को बचा रहे हैं वसुंधरा के करीबी - तिवाड़ी
  8. गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने का सुझाव
  9. राजस्थान में अब तक 10 जनों को लील चुका हैं स्वाइन फ्लू
  10. चोखी ढाणी में देखा ये सब कुछ,दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष ने कराई रिपोर्ट दर्ज

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3