यूपीए और बीजेपी सरकार में कोई अंतर नहीं: प्रकाश करात

इरोड(तमिलनाडु)। माकपा के पूर्व महासचिव प्रकाश करात ने केंद्र में बीजेपी सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि यह भ्रष्टाचार के मामले में पूर्ववर्ती यूपीए सरकार से अलग नहीं है। करात ने कहा कि भ्रष्टाचार के मामले में मौजूदा बीजेपी सरकार और पूर्ववर्ती यूपीए सरकार में कोई अंतर नहीं है। उन्होंने कहा कि दोनों भ्रष्टाचार में लिप्त हैं लेकिन यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि द्रमुक और अन्नाद्रमुक भाजपा के भ्रष्टाचार पर संसद में कोई टिप्पणी कर पाने में विफल रही हैं।
करात ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और राजस्थान एवं मध्य प्रदेश के बीजेपी के मुख्यमंत्रियों संबंधी मामलों पर द्रमुक और अन्नाद्रमुक की चुप्पी पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि वह चाहते हैं कि प्रधानमंत्री तीनों को सत्ता से हटाएं और मामलों की जांच करें। करात ने कहा कि भाजपा ने भ्रष्टाचार मुक्त सरकार का वायदा कर केंद्र में सत्ता हासिल की थी लेकिन अपने शासन के पिछले 14 महीनों में वह बड़े भ्रष्टाचार में लिप्त रही। उन्होंने दावा किया कि देश में केवल माकपा और वाम दल भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं। करात ने कहा कि उनकी पार्टी भाजपा सरकार की किसान विरोधी नीति और उसके भ्रष्टाचार के खिलाफ देशभर में प्रदर्शन करेगी और बैठकें आयोजित करेगी।

तमिलनाडु पर केंद्र को कोई रिपोर्ट नहीं भेजी: तमिलनाडु के राज्यपाल

चेन्नई: तमिलनाडु के राज्यपाल सी. विद्यासागर राव ने आज इससे इनकार किया कि उन्होंने राज्य की वर्तमान राजनीतिक स्थिति पर कोई रिपोर्ट केंद्रीय गृह मंत्रालय या राष्ट्रपति को भेजी है। मीडिया के एक वर्ग द्वारा अपनी खबरों में यह दावा किये जाने के कुछ घंटे बाद कि राव ने एक रिपोर्ट केंद्र को भेजी है राजभव ने एक आधिकारिक विज्ञप्ति में इससे इनकार किया। राजभवन की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया, ‘तमिलनाडु के राज्यपाल सी विद्यासागर राव ने केंद्रीय गृह मंत्रालय या भारत के राष्ट्रपति को कोई रिपोर्ट नहीं भेजी है जैसा कि कुछ मीडिया द्वारा कहा जा रहा है।’ इससे पहले राजनीतिक अनिश्चितता के बीच तमिलनाडु के शीर्ष प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों ने राज्यपाल सी विद्यासागर राव से मुलाकात की और उन्हें राज्य के राजनीतिक हालात से अवगत कराया। मुख्य सचिव गिरिजा वैद्यनाथन, पुलिस महानिदेशक टी के राजेंद्रन और चेन्नई के पुलिस आयुक्त एस जार्ज ने राज्यपाल राव को स्थिति से अवगत कराया। यह बैठक खासा महत्व रखती है क्योंकि अन्नाद्रमुक सरकार बनाने के लिए राज्यपाल के आधिकारिक न्यौते की प्रतीक्षा में है। वहीं ओ पनीरसेल्वम की अगुवाई वाले धड़े को उम्मीद है कि उन्हें बहुमत साबित करने का मौका मिलेगा। गुरुवार को शशिकला और पन्नीरसेल्वम ने राज्यपाल से मुलाकात की थी। शशिकला ने राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया है। इससे पहले शशिकला ने राज्यपाल सी विद्यासागर राव से मुलाकत कर सरकार बनाने के लिए दावा पेश किया था. शशिकला के साथ पांच मंत्री भी मौजूद थे. उन्होंने 130 विधायकों की सूची भी सौंपी. इसके बाद वह जयललिता मेमोरियल पर श्रद्धांजलि देने भी पहुंची. वहीं, शशिकला से पहले पन्नीरसेल्वम भी राज्यपाल से मिले थे. उन्होंने 40 विधायकों के समर्थन का दावा किया है. साथ ही उन्होंने गवर्नर से यह भी कहा कि पार्टी ने उन्हें इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया था.

More Articles...

  1. जयललिता आज पांचवीं बार बनेंगी मुख्यमंत्री
  2. शशिकला ने 131 विधायकों को अज्ञात जगह भेजा
  3. शशिकला बन सकती हैं तमिलनाडु की सीएम, जयललिता की भतीजी ने कहा- यह सेना के तख्तापलट जैसा
  4. शशिकला बनेंगी तमिलनाडु की मुख्यमंत्री, 8 या 9 फरवरी को ले सकती हैं शपथ !
  5. धोनी के कप्तानी छोड़ने के फैसले पर अश्विन ने दिया यह बयान
  6. बीएसएनएल का छप्पर फाड़ ऑफर: 144 रुपए से अनलिमिटेड लोकल और एसटीडी कॉलिंग
  7. शशिकला बनी एआईएडीएमके की महासचिव, पार्टी ने प्रस्ताव पास किया
  8. तमिलनाडु: मुख्य सचिव के घर आईटी रेड, 96 करोड़ की बरामदगी केस में पूछताछ
  9. तमिलनाडुः जयललिता की मृत्यु के बाद उनकी करीबी शशिकला को पार्टी की कमान
  10. 'वरदा' तूफान ने तमिलनाडु में मचाई तबाही, 10 लोगों की मौत, कमजोर पड़ीं हवाएं

Subcategories

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3