फैसला कराने को पुलिस बना रही दवाब,

अमरोहा, अ.हि.ब्यूरो। पुलिस द्वारा फैसले का दबाव बनाने से परेशान पीडि़त परिवार ने एसपी कार्यालय पहुंचकर प्रदर्शन किया और पुलिस अधीक्षक पूनम को प्रार्थना पत्र देकर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाही की मांग की। प्रदर्शनकारियों में हरपाल निवासी ज्ञानपुर थाना सैदनगली ने आरोप लगाया कि उसकी बेटी सविता ने सुलेंद्र पुत्र हरपाल, ओमकार पुत्र लल्लू तथा ऊषा देवी के खिलाफ महिला थाने में धारा 498ए, 377, 323, 506 आई.पी.सी व 3/4 डी.पी.एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कराया गया था। लेकिन अभी पुलिस द्वारा आरोपियों के विरुद्व कोई कार्रवाही नही की गई। बल्कि पुलिस और आरोपी पक्ष मिलकर पीडि़त परिवार पर फैसले का दबाव बना रहे है। जब परिवार के लोगों ने समझौते से इंकार कर दिया तो थाना सैदनगली प्रभारी ने जबरन परिवार के लोगों को हवालात में बंद रखा और फैसला न करने पर फर्जी मुकदमा दर्ज करने की धमकी। पीडि़त परिवार ने एसपी पूनम से आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाही करने की मांग की। प्रर्दशन करने वालों में हरपाल सिंह, संजय कुमार, सूरज सिंह, यशपाल सिंह, चेतराम सिंह आदि शामिल रहे।

निष्पक्ष जांच को भाकिसं ने सीओ को सौंपा ज्ञापन

हसनपुर,अ.हि.ब्यूरो। भारतीय किसान संघ ने निर्दोष लोगों को झूठा फंसाने का आरोप लगाते हुए सीओ को ज्ञापन देकर निष्पक्ष कार्यवाही की मांग की। ज्ञापन सौंपते हुए वक्ताओं ने कहा कि गांव लुहारी भूड़ की एक महिला ने गांव के ही लोकेश, मनोज व दीपपुर के लाखन सिंह के खिलाफ झूठा मुकदमा कायम कराया गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि उक्त महिला द्वारा पहले भी अन्य लोगों के खिलाफ झूठे मुकदमे कायम कराये हैं और पैसे लेकर फैसला कर लेती है। उनकी मांग है कि महिला द्वारा कायम कराये गये मुकदमे की निष्पक्ष जांच की जाये जिससे दूध का दूध और पानी का पानी हो सके। इससे गांव में ऐसी घटनाओं की पुर्नावर्ती को रोका जा सके। ज्ञापन देने वालो में राजपाल सिंह, राजेश सिंह, कोविन्द्र सिंह, मुकेश कुमार, महेन्द्र, बबली सिंह, महेन्द्र, रोहताश सिंह, लोकेश सिंह, जबर सिंह, मेघराज, चन्द्रपाल, जयपाल सिंह, सोमपाल सिंह, प्रहलाद सिंह, वीरेन्द्र सिंह, कैलाश, विजय, प्रमोद, अंकुर सिंह आदि शामिल रहे।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3