बदायूं में बोले पीएम मोदी- अखिलेश करते हैं मेरे भाषण की नकल

बदायूं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के बदायूं में एक रैली को संबोधित किया. इस रैली में एक बार फिर पीएम मोदी के निशाने पर सपा और कांग्रेस का गठबंधन रहा. पीएम ने अखिलेश पर भी जमकर हमला किया. पीएम ने कहा कि अखिलेश उनके भाषण की नकल करते हैं. वो उनकी तरह सवाल-जवाब पूछने लगे हैं. पीएम ने कहा कि जहां भी ये सभी नेता जाते हैं वहां सिर्फ वो मोदी की बात करते हैं अपने काम का हिसाब नहीं देते. पीएम ने कहा कि आजकल देश के नेता उनकी तरह भाषण देने की नकल करते हैं, उनकी तरह सवाल-जवाब करते हैं. अखिलेश यादव ने भी मेरी तरह सवाल-जवाब पूछे. उन्होंने पूछा कि क्या अच्छे दिन आ गए? मैं कहता हूं कि यूपी के अच्छे दिनों की जिम्मेदारी अखिलेश की है. 5 साल से अखिलेश सरकार में हैं पीएम ने कहा कि 2014 में बदायूं से मेरा सांसद नहीं जीता, लेकिन बदायूं के लोग मेरे थे. मायावती, मुलायम को जहां पहुंचना था पहुंच गए, लेकिन आजादी के बाद भी यहां बिजली नहीं पहुंच पाई. अखिलेश बोलते हैं कि काम बोलता है, जबकि बच्चा-बच्चा जानता है कि अखिलेश का काम नहीं कारनामें बोलते हैं. यहां अखिलेश के चहेते विधायक हैं, उन्होंने अपनी पार्टी पर ही आरोप लगाया कि अवैध खनन, बिजली में भ्रष्टाचार करते हैं. रैली में मोदी ने कहा कि बदायूं तो वीआईपी है, क्योंकि यह तो मुलायम, मायावती का कार्य क्षेत्र रहा है. बदायूं को दिग्गज नेताओं का साथ मिला है. वीआईपी जिला होने के बावजूद पिछड़ा हुआ है. बदायूं का नाम 100 पिछड़े हुए जिलों में है. सबसे बुरे जिले में से एक जिला बदायूं हो गया है. बदायूं की जनता ने जिसे अपना आशीर्वाद दिया, उसने इस जिले का क्या हाल बना दिया. मोदी ने कहा कि 2009 में यहां आया था, माहौल देखकर लग रहा है कि अगर 2014 में भी आया होता तो शायद आपने अपना रिजल्ट बदल दिया होता. काशी और यूपी के आशीर्वाद से मैं प्रधानमंत्री और केंद्र में स्थिर सरकार बनी. ये सरकार गरीब, वंचित, शोषित के लिए काम करेगी. आजादी के 70 सालों के बाद भी 18 हजार गांव ऐसे थे, जहां आज भी बिजली नहीं थी. आजाद भारत में ये सबसे बड़ा कलंक था. मैंने कहा 1000 दिनों के भीतर बिजली पहुंचानी है, ये काम पूरा हो गया. अकेले यूपी में 1500 गांव ऐसे थे जहां बिजली नहीं थी. यूपी में एमएलसी की तीन सीटें जीतने पर पीएम ने कहा कि 11 फरवरी को यहां की जनता ने संकेत दिया है कि आगे क्या होने वाला है. बता दिया है कि उत्तर प्रदेश में आंधी कितनी तेज है. यूपी चुनावी मैदान में जो हैं वो तो परेशान होंगे ही, लेकिन उनके कुछ लोग जो दिल्ली में बैठे हैं वो इससे ज्यादा परेशान होंगे.

महाराणा प्रताप जयंती 9 मई को

बदायूं। महाराणा प्रताप जयंती की तैयारी हेतु आवश्यक बैठक हरिप्रताप सिंह एडवोकेट के आवास पर हुई। जिसकी अध्यक्षता क्षत्रिय महासभा के नवनियुक्त जिला अध्यक्ष राजपाल सिंह चौहान ने की तथा संचालन डॉ. सुशील कुमार सिंह ने किया। बैठक में वक्ताओं ने 9 मई को महाराणा प्रताप सिंह जयंती के कार्यक्रम को भव्य रूप में मनाने की रणनीति बनी। बैठक में क्षत्रीय महासभा के जिलाध्यक्ष पद पर राजपाल सिंह चौहान तथा महासचिव पद पर विजयपाल सिंह फैाजी को सर्वसम्मति से बनाया गया। जयंती समारोह में रिटायर्ड राजीव कुमार सिंह आईएएस विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद रहेंगे।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3