आठ केंद्रों पर कड़ी सुरक्षा में हुई टीईटी परीक्षा

बदायूं, अ.हि.ब्यूरो। शहर के आठ परीक्षा केंद्रों पर मंगलवार 2 फरवरी को आयोजित शिक्षक पात्रता परीक्षा शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गई। डीएम शम्भू नाथ तथा एसएसपी सौमित्र यादव ने संयुक्त रूप से परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण कर स्थिति का जायजा लिया। डीएम ने कुंवर रुकुम सिंह वैदिक इंटर कॉलेज, केदारनाथ महिला इंटर कॉलेज, दास डिग्री कॉलेज सहित कई परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण किया और सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। सभी परीक्षा केंद्रों पर समुचित पुलिस बल लगाया गया था। डीएम ने केंद्र व्यवस्थापकों से वार्ता कर किसी प्रकार की  समस्या के संबंध में भी जानकारी हासिल की। परीक्षा स्वव्यवस्थित ढंग से संपन्न कराने हेतु सभी परीक्षा केंद्रों पर मजिस्ट्रेट तथा पर्यवेक्षकों को तैनात किया गया था। परीक्षा दो पालियों में आयोजित हुई।परीक्षार्थियों की सुविधार्थ प्रत्येक परीक्षा केंद्र पर पार्किंग तथा सामान रखने के लिए क्लास रूम बनाया गया था। कुंवर रुकुम सिंह वैदिक नगला इंटर कॉलेज पर अपर जिलाधिकारी प्रशासन अशोक कुमार श्रीवास्तव और एसपी सिटी अनिल कुमार यादव सहित जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी आनन्द प्रकाश शर्मा उपस्थित पाए गए। किसी परीक्षा केंद्र में कोई भी परीक्षार्थी मोबाइल तथा अन्य इलैक्ट्रानिक उपकरण साथ ले कर प्रवेश नहीं कर सका। परीक्षा केंद्रों में पेय जल तथा समुचित प्रकाश की व्यवस्था की गई थी।जिला विद्यालय निरीक्षक वीना यादव ने बताया कि प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्तर की टीईटी परीक्षा हेतु कुल 8230 आवेदन प्राप्त हुए थे जिसमें 393 आवेदकों ने परीक्षा छोड़ दी और 7837 परीक्षा में शामिल हुए। प्राथमिक स्तर के लिए 5074 आवेदन प्राप्त हुए थे, जिसमें 233 परीक्षार्थियों द्वारा परीक्षा छोडऩे के बाद 4841 परीक्षार्थी शामिल हुए और उच्च प्राथमिक स्तर के लिए 3156 आवेदन प्राप्त हुए, जिसमें 160 परीक्षार्थियों द्वारा परीक्षा छोडऩे के बाद 2996 परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल हुए।

डीएम का अचानक दौरा, कार्यदायी संस्था के भुगतान पर रोक

बदायूं। जिला चिकित्सालय में डिजिटल एक्सरे रूम तैयार करने वाली कार्यदायी संस्था प्रॉगनासेस मेडीकल सिस्टम प्राइवेट लिमिटेड के भुगतान पर अग्रिम आदेशों तक डीएम शम्भू नाथ ने रोक लगा दी है। एक्सरे रूम गुणवत्ता को नजरअंदाज़ कर तैयार किया गया, जिसके कारण उसकी सीलिंग (फालिंग रुफ) गिर गई है। मंगलवार को डीएम ने एसएसपी सौमित्र यादव के साथ जिला चिकित्सालय में आकस्मिक रूप से छापामार कर चिकित्सालय के हालातों का जायजा लिया तो पूरे अस्पताल में हड़कंप मच गया। डीएम ने पूरी ओपीडी का गहन निरीक्षण किया, चिकित्सकों और मरीजों से भी वार्ता की और दवा वितरण खिड़की से दवा प्राप्त करने वाली महिला की दवाइयों को भी चैक किया। एंटीरेवीज के इंजेक्शन लगने वाले रूम का भी निरीक्षण किया और एक मरीज को बुलाकर उससे वार्ता की उसके हाथ में कुत्ते ने काटा था, डीएम ने उसके जख्म को भी देखा। डीएम ने पर्चा बनने वाली खिड़की का भी मुआयना किया और वहां कई लोगों के एकत्र होने पर डीएम ने ऐतराज जताया, जिससे डॉ. हरपाल सिंह ने अवगत कराया कि इन चारों लोगों को इसी कार्य के लिए लगाया गया है। नाक, कान तथा गले से संबंधित चिकित्सक के ओपीडी कक्ष में मकड़ी के जाले लगे होने पर डीएम ने नाराजगी जताते हुए साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने के  निर्देश दिए। मोहल्ला मीरा जी चौकी निवासी जुवैदा ने डीएम से शिकायत की कि रविवार के दिन उसके जीजा को इमरजेंसी में दिखाने पर किसी चिकित्सक ने प्राइवेट डॉक्टरों के यहां इलाज कराने के लिए रैफर कर दिया, जिस पर डीएम ने कड़ी नाराजगी जताई और और तुरंत हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. रियाज अहमद को बुलाकर इलाज करने के निर्देश दिए। सीएमएस अवकाश पर पाए गए। इस अवसर पर चिकित्सकगण भी मौजूद रहे।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3