चौथे दिन भी धरने पर डटे रहे किसान

बदायूं, अ.हि.ब्यूरो। किसान क्रांति वर्ष के तहत 'डेरा डलो-घेरा डालोÓ के तहत कलेक्ट्रेट पर चौथे दिन भी धरने पर भाकियू और बीकेडी के कार्यकर्ता डटे रहे। उल्लेखनीय रहे कि केंद्र और प्रदेश सरकारों द्वारा अन्नदाताओं के साथ घोर अन्याय और झूठे वायदे से बिफरी भाकियू। अब इन सरकारों से दो-दो हाथ करके ही दम लेंगे। भाकियू जिलाध्यक्ष ठा. धर्मपाल सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष चौ. नरेश टिकैत केंद्र और प्रदेश सरकार के वायदाखिलाफी से नाराज हैं। इलाहाबाद में प्रदेश और केंद्र की सरकारों को घेरने की रणनीति तय की जाएगी। इस अवसर पर बीकेडी जिलाध्यक्ष राजेश सक्सेना ने कहा कि जनपद को सूखाग्रस्त जिला घोषित नहीं करके किसानों को स्थानीय नेताओं ने धोखा दिया है। किसानों से ऋण वसूली पर उत्पीडऩ किया जा रहा है। अन्नदाताओं के साथ सत्ताधारी मजाक कर रहे हैं। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि जनपद को सूखाग्रस्त घोषित नहीं किया गया तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। भाकियू के नगराध्यक्ष हारुन गौस ने कहा कि पूरे प्रदेश भर में गन्ने की जंग भाकियू लड़ रही है। गन्ना मूल्य घोषित नहीं करके सरकार ने घोर किसान विरोधी होने के सबूत पेश किए हैं। भाकियू के नगर उपाध्यक्ष सतीश चंद्र साहू ने कहा कि किसानों को विद्युत बिल व किसान क्रेडिट कार्ड को माफ किया जाना चाहिए। भाकियू के जिला प्रवक्ता नरेंद्र सक्सेना व मंडल उपाध्यक्ष चौधरी सौदान सिंह, सतीश साहू, ग्रीश राजपूत, प्रेमपाल, जयलाल राजपूत, तालेवर सिंह यादव, महेंद्र सिंह, तोताराम, सीताराम, रमेश तिवारी, सोनपाल सिंह, विमल सिंह यादव, भजन सिह, रक्षपाल, धर्मपाल, अनोखेलाल, धीरेंद्र कुमार आदि लोग मौजूद रहे।

मुचलका राशि वसूल कर, करें दंडित : डीएम

बदायूं। ग्राम सभा की भूमि पर अवैध कब्जा करने की शिकायत के बाद पुलिस अधिकारियों द्वारा निर्माण कार्य रूकवाने के बावजूद भी ग्राम हतसा के कई लोगों ने मुचलका पाबन्दी होते हुए भी पुन: निर्माण कार्य करा लिया। शिकायत मिलने पर कोतवाली बिसौली के पुलिस अधिकारियों ने इस प्रकरण में आधा दर्जन से अधिक लोगों को मुचलका पाबन्द किया था। जिलाधिकारी शम्भू नाथ तथा एसएसपी सौमित्र यादव ने नियम विरुद्ध निर्माण कराने पर मुचलका राशि वसूलने की कार्रवाई अमल में लाने के निर्देश दिए हैं। प्रत्येक माह के प्रथम और तृतीय शनिवार को थाना स्तर पर आयोजित होने वाले समाधान दिवस के तहत डीएम तथा एसएसपी ने 2 जनवरी को कोतवाली बिसौली में जन शिकायतों को सुना। ग्राम हतसा की रामा देवी ने शिकायत की कि ग्राम सभा की भूमि पर लिंटर डालकर एवं छज्जा निकालने के निर्माण कार्य को पुलिस अधिकारियों द्वारा रुकवाने तथा उन्हें मुचलका पाबंद करने के पश्चात भी गांव के ही रामतन, सोमवीर, यादुवेन्द्र राज, तारकेन्दु, रामफल शर्मा व्योमेश राज, भपेन्द्र, देवकी नन्दन आदि परिजनों ने पुन: निर्माण करा लिया। डीएक ने प्रकरण को गंभीरतापूर्वक लेते हुए मुचलका राशि वसूल कर दंडित करने के निर्देश दिए हैं। कृषक सूखे और अतिवृष्टि की आर्थिक सहायता के चेक लेकर दर दर भटक रहे हैं और अभी शतप्रतिशत राशि का भुगतान नहीं हो सका है। समाधान दिवस में ग्राम खजुरिया के फागुनी, जान मुहम्मद, नवाब शाह तथा ग्राम अतरपुरा के धारा सिंह सहित कई किसानों द्वारा चेक लेकर पहुंचने पर डीएम ने पीएनबी तथा स्टेट बैंक के शाखा प्रबंधकों को मौके पर तलब कर हिदायत दी कि किसानों के चेक भुगतान में किसी प्रकार की असुविधा नहीं होना चाहिए। उन्होंने सभी उप जिलाधिकारियों, तहसीलदारों तथा लेखपालों को भी निर्देश दिए हैं कि वह अपने-अपने क्षेत्र में सुनिश्चित करें कि किसान का चेक भुगतान हेतु शेष नहीं रहना चाहिए। समाधान दिवस में लेखपालों की उपस्थिति तो शत-प्रतिशत रही, लेकिन शिकायत करने वाले कम ही फरियादी आए। डीएम, एसएसपी ने अगले समाधान दिवस से पूर्व सभी शिकायतों का प्रत्येक दशा में निस्तारण कराने हेतु पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3