निठारी कांडः सुरेंद्र कोली ने कहा 'जज साहब मैं पागल हूं', सामने से मिला ये जवाब

गाजियाबाद नोएडा के बहुचर्चित निठारी कांड में सजायाफ्ता कैदी सुरेंद्र कोली ने सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश पवन कुमार तिवारी की अदालत में मंगलवार को एक नई अर्जी दी, जिसमें उसने कहा कि ‘मैं पागल हूं। कार्य और अपराध की प्रवृति नहीं जानता था। लिहाजा मेरे विरुद्ध कार्रवाई पागलों (विक्षिप्त) के लिए नियत कार्रवाई के अनुसार होनी चाहिए’। वहीं सुनवाई के दौरान सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश ने उसकी इस अर्जी को खारिज कर दिया। मामले में सुनवाई के लिए अगली तारीख 23 नवंबर की नियत की गई है। निठारी में हत्या व दुष्कर्म के कई मामलों में सुनवाई के लिए सजायाफ्ता कैदी सुरेंद्र कोली और मोनिंदर सिंह पंधेर कड़ी सुरक्षा में सीबीआइ की विशेष अदालत में पेश हुए। अदालत में सुरेंद्र कोली ने खुद बहस करते हुए एक बार फिर खुद को बीमार बताया। कोली ने कहा, मैं पागल हूं। साथ ही इस बार उसने बाएं हाथ के कंधे और बाजू में दर्द की बात अदालत को बताई। इससे पहले उसने दाएं हाथ के कंधे और बाजू में दर्द की शिकायत की थी। मामले में जिला कारागार के चीफ मेडिकल अफसर ने अदालत में पेश होकर उसके पूरी तरह स्वस्थ होने और बहाना बनाने के संबंध में स्पष्टीकरण दिया था। मालूम हो, कि 29 दिसंबर 2006 को नोएडा के निठारी में मोनिंदर सिंह पंधेर की कोठी के पीछे नाले में पुलिस को 19 बच्चों और महिलाओं के कंकाल मिले थे, जिसके बाद पुलिस ने मोनिंदर सिंह पंधेर और उसके नौकर सुरेंद्र कोली को गिरफ्तार किया था। सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश पवन कुमार तिवारी की अदालत में मंगलवार को सुरेंद्र कोली ने फिर से गवाहों को तलब करने और पुन: गवाही कराने की अर्जी भी दी। इस बार उसने मंजुला कृष्णन (आर्थिक सलाहकार व चेयरपर्सन मिनिस्ट्री ऑफ वूमेन एंड चाइल्ड डेवलपमेंट), बलविंदर कुमार (सेक्रेट्री डिपार्टमेंट ऑफ वूमेन एंड चाइल्ड डेवलपमेंट, यूपी सरकार), वीएन गौड (ज्वाइंट कमिश्नर, मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स), जेएस कोचर (डायरेक्टर, चाइल्ड अफेयर्स, मिनिस्ट्री ऑफ वूमेन एंड चाइल्ड डेवलपमेंट), के. स्कंदन, डा. विनोद कुमार (एमडी, चीफ मेडिकल सुपरिटेंडेंट, नोएडा), मूर्ति देवी, डा. संजीव (एसोसिएट डायरेक्टर, सीएफआइ, भोपाल), डा. ममता सूद (एसोसिएट प्रोफेसर, एम्स), चंद्रशेखर (मेट्रो पॉलिटियन, मजिस्ट्रेट, पटियाला) की दोबारा से गवाही की अर्जी दी है। इस दौरान अदालत में कोली ने बहस भी की।

भाजपा नेता जग्गी भाटी के हत्यारोपी पूर्व विधायक अमरपाल ने किया कोर्ट में सरेंडर

खोड़ा में हुई भाजपा नेता गजेंद्र भाटी की हत्या में फरार चल रहे पूर्व विधायक अमरपाल शर्मा ने मंगलवार सुबह गाजियाबाद की सीजेएम कोर्ट में सरेंडर कर दिया। बता दें कि अमरपाल शर्मा भाजपा नेता जग्गी भाटी की हत्या में नामजद आरोपी हैं और वह फरार चल रहे थे। पुलिस ने दो दिन पहले ही अमरपाल शर्मा पर 25 हजार का ईनाम घोषित किया था। खोड़ा में हुई भाजपा नेता गजेंद्र भाटी की हत्या में फरार चल रहे पूर्व विधायक अमरपाल शर्मा की कुर्की के मामले में सीजेएम के अवकाश पर होने के चलते सोमवार को सुनवाई नहीं हो सकी। मामले में आज सुनवाई होनी थी जिससे पहले अमरपाल शर्मा ने सरेंडर कर दिया। गौरतलब है कि खोड़ा कालोनी में दो सितंबर को भाजपा नेता गजेंद्र भाटी उर्फ गज्जी की हत्या हुई थी। पुलिस इस केस में पहले ही राजू पहलवान और नरेंद्र फौजी को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। फिलहाल इस केस में मुख्य आरोपी अमरपाल शर्मा फरार चल रहा है। वहीं पिछले दिनों हत्यारोपी पूर्व विधायक अमरपाल शर्मा पर एसएसपी ने 25 हजार रुपये का इनाम घोषित कर दिया है। इसके अलावा आरोपी पर 50 हजार रुपये का इनाम घोषित करने के लिए शासन को पत्र लिखा है।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3