संगीत सोम के बयान से भाजपा का कोई लेना-देना नहीं

ताजमहल पर गुस्साये आजम खान बोले- राष्ट्रपति भवन भी गिरा दो, योगी ने यूं संभाली बात मेरठ। सरधना संगीत सोम के विवादास्पद बयान पर विभिन्न दलों और नेताओं ने तीखी प्रतिक्रियाएं व्यक्त की हैं। उनके इस बयान पर भाजपा ने जहां पल्ला झाड़ लिया है वहीं सभी ने इस पर अपनी-अपनी रायशुमारी करते हुए कहा है कि ताजमहल देश की धरोहर है। उधर, कई लोगों ने इस बयान को महज राजनीति स्टंट बताया है। गौरतलब है कि रविवार को मेरठ में आयोजित एक कार्यक्रम में संगीत सोम ने कहा था कि बाबर, अकबर और औरंगजेब जैसे लोग महापुरुष नहीं गद्दार थे। इनका नाम इतिहास से हटाया जाएगा। साथ ही ऐसे लोगों द्वारा बनाई गई इमारतों के नाम भी बदला जाएगा। ताजमहल को लेकर संगीत सोम के बयान से पैदा हुए विवाद में अब समाजवादी पार्टी के नेता आज़म ख़ान भी कूद पड़े हैं. आज़म खान का कहना है कि राष्ट्रपति भवन को भी गिरा देना चाहिए क्योंकि अंग्रेज़ों का बनाया ये राष्ट्रपति भवन गुलामी का प्रतीक है. मैने ताजमहल के बारे में कुछ नहीं कहा है। ताजमहल तो हमारी सांस्कृतिक धरोहर है। मैने तो केवल इतिहास के बारे में बात की है जो सही है। - ठा. संगीत सोम विधायक सरधना संगीत सोम का बयान उनका व्यक्तिगत बयान है। इससे भाजपा का कोई लेना देना नहीं है। लेकिन ताजमहल विश्व के सात आश्चर्यों में शामिल है। इसे देखने के लिए लाखों पर्यटक हर साल विदेशों से भारत आते हैं। वैसे भी यह स्मारक अब पुरातत्व विभाग के संरक्षण में राष्ट्रीय धरोहर में शामिल है, जिसका किसी धर्म से कोई लेना देना नहीं है। वहीं ओवैसी को खबरों में रहने के लिए अनर्गल प्रलाप करने की आदत है। हर बात पर अव्यवहारिक और अमर्यादित प्रतिक्रिया देना उनका शगल है। - डॉ. लक्ष्मीकांत वाजपेयी, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष भाजपा संगीत सोम व ओवैशी को इतिहास की जानकारी नहीं है। दोनों विवादित बयानों से समाज में विद्वेष फैलाकर चुनाव जीतने का हथकंडा अपनाते हैं। ताजमहल देश की सांस्कृतिक धरोहर है और विश्व के आश्चर्यों में से एक हैं। संगीत सोम का बयान पार्टी की लाइन सबका साथ, सबका विकास से भी मेल नहीं खाता है। - केसी त्यागी, प्रधान महासचिव जेडीयू संगीत सोम व ओवैशी विवादित बयान देने के लिए एक्सपर्ट हैं। नेताओं को ऐसे बयानों पर नहीं देश और समाज के विकास पर ध्यान देना चाहिए। विवादित बयानों से कुछ समय के लिए चर्चा तो पाई जा सकती है, लेकिन इतिहास पुरुष नहीं बना जा सकता। - डॉ. राजकुमार सांगवान, पूर्व प्रदेश संगठन प्रभारी रालोद भाजपा गड़े मुर्दे उखाड़ने का काम कर रही है, उसे मानवता वालों मुद्दों से कोई लेना देना नहीं है। ताजमहल को सातवां अजूबा कहकर देश-विदेश से लोग आते हैं। इस तरह के बयान राजनीति चमकाने और लोगों में दरार डालने के लिए दिए जाते हैं। - राजपाल सिंह, सपा जिलाध्यक्ष भाजपा वाले रेलवे लाइन तो सही करा नहीं पाए और इतिहास की बात करते हैं। ये जन सुविधा की बात नहीं करते, बल्कि भावनाएं भड़काने की बात करते हैं, लेकिन अब जनता इन्हें पहचान चुकी है और इन्हें नकारना शुरू कर दिया है। - अब्दुल अलीम अलवी, सपा महानगर अध्यक्ष

मेरठ में खूनी संघर्ष, दो सगे भाइयों की मौत

गाड़ी पार्क करने की जगह बनी फसाद का अड्डा, 2 समुदायों में चली ताबड़तोड़ गोलियां मेरठ मेरठ में फलावदा के सनौता गांव में बृहस्पतिवार शाम अलग-अलग समुदाय के दो परिवारों में हुए खूनी संघर्ष में गोली लगने से दो सगे भाइयों की मौत हो गई। दोनों पक्षों में जमकर मारपीट के साथ ही पथराव व फायरिंग भी हुई। मौके पर एसएसपी, एसपी देहात समेत कई थानों की पुलिस फोर्स पहुंची। तनाव की स्थिति देखते हुए गांव में पुलिस और पीएसी बल तैनात किया गया है। मृतकों के पिता की ओर से दर्ज कराई गई एफआईआर में सात लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। इनमें से एक गुलफाम को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। एसपी देहात राजेश कुमार के मुताबिक सनौता गांव में दलित और मुस्लिमों की मिश्रित आबादी है। धर्मवीर व पप्पू समेत कई लोगों के घरों के बाहर बुग्गी खड़ी होती हैं, जिसका दूसरे समुदाय के लोग ऐतराज करते हैं। बुग्गी खड़ी होनी बंद नहीं हुई तो दूसरे समुदाय ने भी अपने घर के बाहर कार खड़ी करनी शुरू कर दी, जिसे लेकर विवाद बढ़ गया। बृहस्पतिवार शाम सात बजे कार खड़ी करने को लेकर दोनों पक्षों में कहासुनी होने लगी। इसके बाद धर्मवीर और हाजी निसार पक्ष के लोग आमने-सामने आ गए। आरोप है कि दलित पक्ष के लोगों ने ताबड़तोड़ गोलियां चला दीं। जिसमें निसार के बेटे दिलशाद (24) व मनसाद (20) को गोली लगी। दोनों तरफ से गोलियां चलते ही ग्रामीणों में भगदड़ मच गई। परिवार के लोग दोनों घायलों को एक निजी अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। दोनों सगे भाइयों की मौत पर सनौता और आसपास के गांवों में तनाव की स्थिति बन गई। आरोपियों के घर पर हमले की कोशिश की गई। गनीमत रही कि पुलिस ऐन वक्त पर मौके पर पहुंच गई। एसएसपी मंजिल सैनी ने पीड़ित परिवार को आश्वासन दिया कि किसी भी आरोपी को बख्शा नहीं जाएगा। पुलिस ने दोनों समुदाय के लोगों से शांति बनाने की अपील की।

More Articles...

  1. एनएच-58 पर दिल्ली पुलिस ने की ताबड़तोड़ फायरिंग... आतंकी हमले से लोग सहमे
  2. दीवार पर खून के छींटे बयां कर रहे इस बर्बरता की दास्तां...
  3. स्कूल में घुसकर पूर्व मंत्री याकूब की बेटी ने छात्राओं को चाबुक से पीटा
  4. योगी के खिलाफ फूटा दलितों का गुस्सा, तोडफ़ोड़ के बाद फाड़े पोस्टर
  5. रिटायर्ड कर्नल के घर छापा, एक करोड़ कैश सहित हथियारों का जखीरा और मांस बरामद
  6. मेरठ निगम बैठक में वंदे मातरम पर 'दंगल', दोनों पक्ष अड़े
  7. मेरठ: बूचड़खानों पर कार्रवाई की गाज दो बसपा नेताओं पर गिरी, कहा- हमारे पास सारे कागजात
  8. दूल्हे को देख दुल्हन ने किया शादी से इंकार, बारात को बनाया बंधक, साजिश फेल
  9. मेरठ में जो खुद को नहीं बचा पाएं यूपी को क्या बचा पाएंगे : मोदी
  10. मेरठ में कारोबारी का मर्डर, शोक में अमित शाह ने बीच में रोकी पदयात्रा

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3