कचहरी में पेशी पर आए बदमाश को छुड़ा ले गए साथी, ऐसे की थी प्लानिंग

मेरठ। मेरठ कचहरी पर पेशी पर आए एक कैदी को उसके साथियों ने हमला कर छुड़ा लिया। आनन-फानन में एसपी सिटी समेत अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे, लेकिन तब तक कैदी और उसके साथी वहां से फरार हो चुके थे। घटना से पुलिस में हड़कंप मचा हुआ है। एसएसपी जे.रविन्द्र गौड ने मामले की गंभीरता को देखते हुए दोनों सिपाहियों को सस्पेंड कर दिया है और फरार हत्यारोपी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीमों का गठन कर दिया है। घटना गुरुवार शाम की है। मेरठ कचहरी में हत्यारोपी इकराम पेशी पर आया हुआ था। सरधना निवासी इकराम 2010 में लिसाडी गेट निवासी मतीन की हत्या का आरोपी है। इसी हत्या के मामले में इकराम को कचहरी में पेशी पर लाया गया था। इसी दौरान पहले से फील्डिंग सजा कर बैठे इकराम के साथियों ने इकराम को पेशी पर लाने वाले सिपाही अरविन्द व करमअली पर हमला बोल कर इकराम को छुड़ा लिया।
इस बीच एक बदमाश के हाथ से तमंचा छूट गया ये देख दूसरे बदमाश ने सिपाही पर उस्तरे से हमला बोल दिया और इकराम को लेकर फरार हो गए। बताते है कि इकराम वर्ष 2007 में भी पुलिस हिरासत से फरार हुआ था और 2010 में हत्या के बाद वह फिर गिरफ्तार हुआ था। चर्चा है कि मेरठ जेल में बंद कुख्यात उधम सिंह के शूटर भरतू नाई ने इकराम की फरारी का तानाबाना अपने साथी देवेश त्यागी के साथ मिलकर बुना है और भरतू नाई द्वारा अपने गुर्गो की मदद से जेल के बाहर कुछ घटनाओं को अंजाम दिलाने के लिए इकराम को छुड़ाया गया है।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3