योगी के खिलाफ फूटा दलितों का गुस्सा, तोडफ़ोड़ के बाद फाड़े पोस्टर

मेरठ पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ, मलिन बस्ती में लगाएंगे झाड़ू मेरठ: मेरठ दौरे पर पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ लोगों ने उग्र प्रर्दशन किया है। लोगों ने पहले शराब की एक दुकान में तोडफ़ोड़ की फिर योगी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इतना ही नहीं वहां लगे मुख्यमंत्री योगी के पोस्टर भी फाड़ दिए। इन लोगों का आरोप था कि योगी आदित्यनाथ दलित विरोधी हैं। दरअसल मेरठ शहर में शेरगढ़ नाम की एक दलित बस्ती में जाकर योगी लोगों से मिले। शेरगढ़ जाने का मुख्यमंत्री का कार्यक्रम पहले से तय था। अधिकारियों ने वहां पर मुख्यमंत्री के आने की तैयारी भी की थी, लेकिन एक चूक हो गई। शेरगढ़ दलित बस्ती में घुसते ही भीमराव अंबेडकर की एक मूर्ति लगी है। परंपरा रही है कि कोई भी महत्वपूर्ण व्यक्ति जब इस बस्ती आता है तो सबसे पहले अंबेडकर की मूर्ति पर माल्यार्पण करता है और उसके बाद मोहल्ले में जाता है। योगी ऐसा नहीं कर पाए। इससे लोग नाराज हो गए और कुछ लोगों ने कहना शुरू कर दिया कि अंबेडकर की मूर्ति को नजरअंदाज करके योगी ने उनके सबसे बड़े महापुरुष का अपमान किया है। लोगों का गुस्सा इसलिए भी भड़क गया क्योंकि शेरगढ़ के लोग मुख्यमंत्री से मिलकर इलाके में शराब की दुकानें बंद कराने और जुए के अड्डों पर पाबंदी लगाने का अनुरोध करना चाहते थे। यहां रहने वाले लोगों का कहना है कि आसपास शराब की दुकानें खुलने से माहौल खराब हो गया है और सट्टे व जुए की वजह से लोग इसी में लगे रहते हैं। लोगों को उम्मीद थी कि योगी तत्काल इसके बारे में कोई ऐलान करेंगे।लेकिन समय की कमी की वजह से योगी वहां कुछ लोगों से मिलकर निकल गए। इससे लोग भड़क गए और अपना गुस्सा पास में एक शराब की दुकान पर निकाला। लोगों ने इस दुकान में तोडफ़ोड़ कर दी। बाद में पुलिस ने मौके पर जाकर लोगों को समझाया, बुझाया और शांत किया।

रिटायर्ड कर्नल के घर छापा, एक करोड़ कैश सहित हथियारों का जखीरा और मांस बरामद

17 घंटे चली रिटायर्ड कर्नल के घर रेड मेरठ। मेरठ के थाना सिविल लाइंस इलाके में महिला थाने के सामने नेशनल शूटर और सेना के पूर्व कर्नल के घर गोपनीय सूचना के आधार पर डीआईआर यानी डारेक्टरेट आफ रेवून्यू इंटेलिजेन्स की टीम ने छापामारी की। इस छापेमारी में रिटायर्ड कर्नल के घर से करीब एक करोड़ रूपये नगद और वन्य जीवो की खाल, खोपड़ी , सींग और वन विभाग से जुडी शूटिंग की 40 राइफल्‍स और पिस्टल सहित करीब 50 हजार कारतूस बरामद किये हैं। साथ दुर्लभ एंव प्रतिबंधित वन्य जीवों का करीब 117 किलो मॉस बरामद किया है। दिल्ली से आई डीआरआई की टीम ने छापेमारी की कार्रवाई 11:30 बजे शुरु की, जो कि रविवार सुबह 3:30 बजे तक चली। इस छापेमारी की कार्रवाई में डीआरआई सहित वन विभाग के आला अधिकारियों और पुलिस टीम को भी बुलाया गया। 16 घंटे चली इस छापेमारी में आखिरकार डीआरआई की टीम को बड़ी सफलता मिली और रिटायर्ड कर्नल के मकान से एक करोड़ रूपये कैश, तेंदुए की खाल, सांभर, एक दर्जन से ज़्यादा काला हिरण और सांभर की खोपड़ी और सींग, वन विभाग से जुडी अत्याधुनिक विदेशी शूटिंग राइफल्स और पिस्टल्स बरामद की। इतना ही नही बड़े कंटेनर में रखे वन्य जीवो के का 117 किलो मांस भी बरामद किया ।बताते चलें कि रिटायर्ड कर्नल देवेन्द्र कुमार अपनी पत्नी संगीता कुमार और अपने पुत्र प्रशांत बिशनोई उर्फ पाशा जो कि राष्ट्रीय शूटर भी है के साथ रहते हैं। टीम के आने से पहले ही कर्नल का आरोपी बेटा प्रशांत बिश्नोई फरार हो गया।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3