किसान ने किया आत्मदाह का प्रयास

रामपुर। शाहबाद में भाकियू भानु गुट के कार्यकर्ताओं ने बारिश से बर्बाद फसलों का मुआवजा न मिलने के विरोध में गेहूं की फसल की होली जलाई। इस दौरान एक किसान ने मिट्टी का तेल उड़ेलकर आत्मदाह का प्रयास किया, जिसे लोगों ने बचाया। बाद में भाकियू कार्यकर्ताओं ने पांच सूत्रीय ज्ञापन तहसीलदार को सौंपा। रविवार सवेरे भाकियू भानु गुट के कार्यकर्ता ग्राम घाटमपुर में आयोजित पंचायत में एकत्र हुए, जहां राष्ट्रीय महासचिव मोहम्मद हनीफ वारसी ने कहा कि बेमौसम बारिश से गेहूं, लाही, आलू, मटर, पालेज आदि फसलें नष्ट हो गई हैं। सोसायटी व बैंकों से लिया कर्ज व फसल बर्बादी के चलते किसान आत्महत्या करने पर उतारू है पर प्रशासन उनकी कोई सुध नहीं ले रहा है। बाद में सभी किसानों ने मिलकर गेहूं की फसल की होली जलाकर मुआवजे की मांग की। इस दौरान घारमपुर का प्रेम श्रीवास्तव फसल नष्ट होने से क्षुब्ध होकर अपने ऊपर मिट्टी का तेल उड़ेलकर आत्मदाह करने का प्रयास करने लगा, जिसे मौजूद भाकियू कार्यकर्ताओं ने समझा बुझाकर शांत किया। इस दौरान मौके पर पहुंचे तहसीलदार प्रभुदयाल को भाकियू कार्यकर्ताओं ने पांच सूत्रीय ज्ञापन सौंपा, जिसमें फसल का शत प्रतिशत मुआवजा दिलाने, बैंकों के कर्ज माफ करने, गन्ने का बकाया भुगतान दिलाने, वसूली करने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो आदि मांगें थीं। भाकियू ने जल्द निस्तारण न होने पर आंदोलन की चेतावनी दी। इस मौके पर हरिओम गुप्ता, मोहम्मद रफीक, राकेश गुप्ता, सीताराम, भानू प्रताप गंगवार, अतर सिंह, राकेश, सतीश, शंकर सिंह आदि मौजूद रहे। पूर्व भाजपा विधायक काशीराम दिवाकर ने कहा कि ओलावृष्टि व बेमौसम बरसात से किसानों की पूर्णतया फसलें नष्ट हो चुकी है, लेकिन प्रदेश सरकार आंखें मूंदे बैठी है। वह नगर में कार्यकर्ताओं के बीच बोल रहे थे। बोले प्रदेश सरकार द्वारा नुकसान का सर्वे एक छलावा है। अब तक बर्बाद किसानों को मुआवजा नहीं दिया गया है। प्रदेश सरकार की उपेक्षा के कारण किसान आत्महत्या करने पर मजबूर हैं। इस दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं ने जल्द मुआवजा न मिलने पर आंदोलन की चेतावनी दी। इस मौके पर सुरेश गुप्ता, राजेश कुमार, नौनीराम बरनवाल, अन्नू रावत, प्रिंस गुप्ता, विजेंद्र कुमार, रामप्रसाद, सचिन गुप्ता, मुकेश गुप्ता आदि रहे।

रामपुर में नर्स के साथ गैंगरेप कर मुरादाबाद में फेंका

नई दिल्ली प्रदेश के रामपुर में नर्स को अगवा कर उसके साथ गैंगरेप किया गया. चार लोगों पर गैंगरेप का आरोप है. खबर है कि गैंगरेप करने के बाद नर्स को चलती कार से मुरादाबाद फेंक दिया. नर्स को एक हफ्ते पहले गैंगरेप की धमकी भी मिली थी. पीड़‍िता का आरोप है कि उसे जब धमकी मिली थी, उसने तभी पुलिस में श‍िकायत दर्ज की थी, लेकिन पुलिस ने कुछ नहीं किया. अभी गैंगरेप के बाद भी पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं की है. गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में रेप की घटनाएं लगातार सामने आ रही हैं. पुलिस प्रशासन सुरक्षा का दावा तो करती है, लेकिन इन घटनाओं में कमी नहीं आ रही है. पिछले महीने भी बांदा में दो लोग रेप के इरादे से एक महिला के घर घुस गए और रेप की कोशिश करने लगे. लेकिन बहादुर महिला ने हार नहीं मानी. महिला ने एक आरोपी की जीभ अपने दांतों के बीच दबा ली और तब तक दबाए रखी, जब तक आरोपी की जीभ कट नहीं गई. इस घटना के बाद लहूलुहान आरोपी अपने साथी के साथ दर्द से कराहता हुआ फरार हो गया. वारदात के वक्त आरोपी का पर्स छूट गया था, जिसकी मदद से पुलिस ने आरोपी की पहचान कर ली है. महिला के पति ने अरुण कुमार और गया सिंह के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज कराया है.

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3