प्राइवेट बसें बनी लोगों की पहली पसंद

अ.हि.ब्यूरो सम्भल। पैट्रोल डीजल के दाम जब जब बढाए जाते है उप्र सरकार रोडवेज बसों के किराए में भी वृद्धि कर देती है। परिवहन विभाग जरा भी बोझ अपने सर नही लेना चाहता। गौर करने की बात यह है कि यह बढा किराए दाम घटने के बाद भी उतना ही बना रहता है, जितना पहले था। इन आंकडो के मुताबिक उप्र रोडवेज आस पास के राज्यो मे सबसे अधिक महंगी रोडवेज बनी हुई है। इसका फायदा सीधे प्राइवेट कम्पनियां उठा रही है। अपनी बसो को सडको पर उताकर 25 से 30 प्रतिशत कम किराए मे लोगो को गन्तव्य तक पहुचा दिया जाता हें, सुविधा भी सरकारी बसो से ज्यादा और आराम भी। अब यदि कम पैसे देकर ही लोग अपने लक्ष्य तक पहुच रहे है तो रोडवेज बसों को कौन पूछेगा, यही कारण है कि सम्भल में अब दिल्ली तक की यात्रा के लिए काफी प्राइवेट बसे चलने लगी है, जिससे रोडवेज बसो में सबारियां कम ही चढती है। इसी प्रकार यदि रोडवेज बसो को बिना सुविधा उंचे दामों मे सडको पर दौडाया गया तो जल्द ही मध्य प्रदेश की तरह उप्र में भी प्राइवेट कम्पनियों के हाथों मंे संचालन की कमान आ सकती है।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3