भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर उर्फ रावण को हाईकोर्ट से मिली जमानत

सहारनपुर जातीय हिंसा के आरोपी चंद्रशेखर को मिली जमानत सहारनपुर सहारनपुर में जातीय हिंसा के आरोपी भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद को जमानत मिल गई है। उन्हें सहारनपुर में जातीय हिंसा भड़काने का आरोप में यूपी पुलिस ने जून में गिरफ्तार किया था। चंद्रशेखर को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दंगे से जुड़े सभी चार मामलों में जमानत दी। चंद्रशेखर पर हत्या के प्रयास, आगजनी व अन्य गम्भीर धाराओं में मुकदमे दर्ज थे। जस्टिस मुख्तार अहमद की बेंच ने जमानत मंजूर की। चंद्रशेखर को एक अन्य मामले में सेशन कोर्ट से पहले ही जमानत मिल चुकी है। भीम आर्मी के पदाधिकारियों ने चंद्रशेखर उर्फ रावण के इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया। भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद उर्फ रावण से मिलने कई पदाधिकारी जेल में गए थे। चंद्रशेखर का स्वास्थ्य टाइफाइड बुखार होने की वजह से दस दिन से खराब चल रहा था। हालत में सुधार ना होने पर जेल प्रशासन ने उन्हें सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया। तबीयत में कुछ सुधार होने के बाद चंद्रशेेखर को जेल में शिफ्ट कर दिया। मगर उनकी हालत फिर से बिगड़ने लगी थी। भीम आर्मी के पदाधिकारियों ने चंद्रशेखर को बेहतर इलाज एवं कड़ी सुरक्षा प्रदान करने की मांग की थी।

थल सेनाध्यक्ष बिपिन बोले, सेना के पास हथियारों की कमी नहीं, दुश्मन से निपटने के ‌ल‌िए तैयार

वाराणसी । सेना अध्यक्ष बिपिन रावत ने वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर पहुंचे। इस दौरान उनका परिवार भी उनके साथ था। यहां उन्होंने भगवान शिव की पूजा की। मंदिर से बाहर आकर उन्होंने कहा कहा कि मंदिर में मैंने अपने सेना के जवानों की बचाव और सुरक्षा के लिए दुआ मांगी। इस दौरान उन्होंने कहा कि देश की सेना के पास हथियारों की कोई कमी नहीं है। हमें अपने हथियारों की तकनीक को बदलते वक्त के साथ बेहतर करते रहना होगा और सेना को इस नई तकनीक से लैस करना होगा जिससे हम दुश्मनों से लोहा ले सकें। सेना के पास हथियारों की कमी नही है और वह हर तरह की स्थिति में माकूल जवाब दे सकती है। रावत ने कहा कि हमें अपने हथियारों को बदलती तकनीक के साथ बेहतर करते रहना होगा और सेना को इस नई तकनीक से लैस करना होगा, जिससे हम दुश्मनों से लोहा ले सकें। उन्होंने कहा कि आज की तारीख में सेना हर तरह की स्थिति में जवाब देने के लिए तैयार है और किसी भी तरह के हमले से डरने की जरूरत नहीं है। जम्मू कश्मीर पर उन्होंने कहा कि पत्थरबाजी की घटनाओं में कमी आई है। सेना, बीएसएफ, सीआरपीएफ और जम्मू-कश्मीर पुलिस साथ मिलकर काम कर रहे हैं। इसके अलावा उन्होंने फील्ड मार्शल केएम करियप्पा को भारत रत्न दिए जाने पर सेनाध्यक्ष बिपिन रावत ने कहा कि अंतिम फैसला सरकार ही लेगी और जो भी फैसला लिया जाएगा वह स्वीकार होगा। इसके अलावा उन्होंने चीन पर भी बात की। उन्होंने कहा कि डोकलाम में भी स्थ‍िति‍ सामान्य है। हमारी कोशिश यही है कि‍ स्थ‍ित‍ि सामान्य रहे। उन्होंने कहा कि आज की तारीख में सेना हर तरह से जवाब देने के लिए तैयार है और किसी भी तरह के हमले से किसी को भी डरने की जरूरत नहीं है। थलसेना अध्यक्ष ने गुरुवार को स्थापना दिवस समारोह पर कर्नल ऑफ द रेजिमेंट (9 गोरखा) लेफ्टिनेंट जनरल अनिल कुमार भट्ट व मेजर जनरल डीए चतुर्वेदी ने वॉर मेमोरियल पर पुष्पचक्र अर्पित शहीदों को नमन किया। इस दौरान कार्यक्रम में सेना के जवानों ने मोटरसाइकिल पर हैरतअंगेज करतब दिखाए। 1971 के युद्ध में साथ ही, शहीद परिवारों की 18 वीर नारियों को सम्मानित किया गया। इस मौके पर उन्होंने जवानों के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम देखा।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3