ऐसे दिया था जेवर कांड को अंजाम, एसएसपी ने सुनाई वारदात की कहानी

जेवर जेवर गैंगरेप कांड के चार आरोपियों को रविवार तड़के मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया गया. दो फरार बदमाशों की तलाश में दबिश दी जा रही है. नोएडा के एसएसपी लव कुमार ने रविवार को आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि किस तरह से पुलिस करीब दो महीने बाद बदमाशों तक पहुंचने में कामयाब हो पाई. पकड़े गए बदमाश बावरिया गैंग से जुड़े हैं.एसएसपी लव कुमार ने बताया कि जेवर कांड के आरोपियों को पकड़ना उनके लिए किसी चुनौती से कम नहीं था. आरोपियों को पकड़ने के लिए कई टीम लगी हुईं थीं. अलीगढ़ और बुलंदशहर पुलिस के साथ-साथ यूपी एसटीएफ भी बदमाशों की तलाश में जुटी हुई थी. इन दो महीनों के दौरान कई गैंग्स को ट्रेस किया गया. जिसके बाद शनिवार देर रात पुलिस को इन बदमाशों के कार से जेवर आने की सूचना मिली. पुलिस ने जाल बिछाया और जैसे ही बदमाश वहां आए, पुलिस ने उन्हें पकड़ने की कोशिश की लेकिन बदमाशों ने फायरिंग शुरू कर दी. पुलिस की जवाबी फायरिंग में एक बदमाश को गोली लगी, जबकि तीन बदमाशों को धर दबोचा. दो बदमाश मौके से भागने में कामयाब रहे. एसएसपी ने कहा, पुलिस की एक टीम उनकी तलाश में जेवर से सटे आसपास के इलाकों में लगातार दबिश दे रही है. जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा.एसएसपी लव कुमार ने बताया कि पकड़े गए बदमाश भरतपुर, झज्जर और बुलंदशहर के रहने वाले हैं. बदमाशों ने जेवर गैंगरेप कांड को अंजाम देने की बात कबूल कर ली है. बदमाशों के पास से जेवर कांड के पीड़ितों के दो मोबाइल भी मिले हैं. साथ ही इनके पास से 3 तमंचे, जेवरात, कार, सरिया, एक्सेल आदि सामान बरामद किया गया है. बदमाशों ने पूछताछ में बताया कि वह लोग रात के समय वारदात को अंजाम देते थे. चर्चित जेवर कांड में गिरोह के 8 लोग शामिल थे. घटना में उन्होंने स्कॉर्पियो कार का इस्तेमाल किया था. उन्होंने लूट के इरादे से जेवर कांड को अंजाम दिया था. एसएसपी ने बताया कि चारों महिलाओं से गैंगरेप की पुष्टि जांच के आधार पर हुई थी. बीते 25 मई को ग्रेटर नोएडा के जेवर थाना इलाके स्थित साबौता गांव के पास करीब आधा दर्जन हथियारबंद बदमाशों ने कार से जा रहे एक परिवार के साथ लूटपाट की थी. विरोध करने पर बदमाशों ने परिवार के मुखिया की गोली मारकर हत्या कर दी थी. इतना ही नहीं कार में सवार चार महिलाओं के साथ गैंगरेप किए जाने की बात भी सामने आई थी. इस मामले में एक पीड़िता के बयान देने और फिर बाद में अपने ही बयान से मुकरने को लेकर भी खासा विवाद हुआ था.

मुजफ्फरनगर रेल हादसे पर बाबुओं से बोले प्रभु- शाम तक बताएं कौन है जिम्मेदार, जानें पूरी डीटेल

खतौली उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के खतौली में कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस हादसे का शिकार हो गई. इस हादसे में 24 लोगों की जान चली गई, जबकि 150 से ज्यादा जख्मी हैं. दुर्घटना इतनी भयावह थी कि पटरी से उतरे 13 कोच एक-दूसरे पर जा चढ़े. यहां तक कि एक कोच पास के मकान में और दूसरा कोच ट्रैक के किनारे स्थित तिलक राम इंटर कॉलेज कॉलेज में जा घुसा.इस मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 304A (लापरवाही की वजह से मौत) का केस दर्ज किया गया है. वहीं इस हादसे को लेकर रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष को पहली नजर में मिले सबूतों के आधार पर आज शाम तक जबावदेही तय करने के निर्देश दिए हैं. रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि वह हालात पर बारीकी से नजर रख रहे हैं और पटरियों की मरम्मत उनकी शीर्ष प्राथमिकता है. रेलमंत्री ने टि्वटर पर लिखा है, 'मरम्मत प्राथमिकता है. सात डिब्बों को हटा दिया गया है. घायलों के लिए सर्वश्रेष्ठ संभव चिकित्सा सेवा की व्यवस्था की जा रही है. हालात पर करीब से नजर रख रहा हूं.' रेलवे बोर्ड के मेंबर मोहम्मद जमशेद ने मीडिया से बातचीत में कहा कि शनिवार शाम को उत्कल एक्सप्रेस के 13 डिब्बे पटरी से उतरे. राहत-बचाव कार्य में NDRF की मदद ली गई. सभी अधिकारी तुरंत साइट पर रवाना हुए. राज्य मंत्री मनोज सिन्हा भी घटनास्थल पहुंचे. रेल मंत्री भी नजर बनाए हुए हैं. करीब 20 की मौत और 92 लोग घायल हुए हैं, जिसमें से 22 गंभीर और 70 सामान्य रूप से घायल हैं. बचाव कार्य में स्थानीय लोगों ने भी मदद की. उन्होंने कहा कि 10 बजे तक रेलवे ट्रैक बहाल होने की उम्मीद है. जो भी घटना हुई कमिश्नर रेलवे सेफ्टी, उत्तरी मंडल कल से उसकी जांच करेंगे. इसके अलावा उन्होंने कहा कि जो मरम्मत का काम चल रहा था, उस समय जो कॉशन लेना चाहिए था, वो नहीं लिया गया. शुरुआती जांच में जो भी जिम्मेदार होगा, उस पर कार्रवाई की जाएगी. शाम तक इसकी रिपोर्ट आ जाएगी. इसके अलावा आईपीसी की धारा 304A के तहत अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है. हादसे से जुड़ा गेटमैन और एक रेलवे कर्मचारी का ऑडियो सामने आने पर मोहम्मद जमशेद ने कहा कि इसकी जांच होगी.

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3