आगरा में डिप्टी सीएम की सुरक्षा में बड़ी चूक, रिवॉल्वर लेकर मंच तक पहुंचा संदिग्‍ध

आगरा आगरा में किसानों को ऋण मोचन योजना के तहत प्रमाण्‍ा पत्र वितरित करने आए डिप्टी सीएम डा. दिनेश शर्मा की सुरक्षा में बड़ी चूक हो गई। उपमुख्यमंत्री की मंच पर मौजूदगी के दौरान एक युवक रिवॉल्वर लेकर मंच के बिल्कुल समीप पहुंच गया। मीडिया की नजर पड़ते ही पुलिस और प्रशासन में हड़कंप मच गया। पुलिस युवक को अपने साथ ले गई। बता दें कि आगरा में तारघर मैदान में प्रशासन की ओर से कार्यक्रम का आयोजन किया गया। तय कार्यक्रम के तहत उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा सुबह 10 बजे कार्यक्रम में पहुंच गए। कार्यक्रम में उनके साथ मंच पर आगरा के सभी विधायक और सांसद भी थे। डिप्टी सीएम की सुरक्षा को लेकर मंच के चारों ओर सुरक्षा घेरा भी बनाया गया। इसी दौरान देखा गया कि घेरे के समीप ही एक व्यक्ति अपनी कमर में रिवॉल्वर लगाए मौजूद था। वह मंच पर बैठे डिप्टी सीएम का वीडियो बना रहा था। जैसे ही मीडिया की नजर उस पड़ी तो हड़कंप मच गया। आनन फानन में पुलिसकर्मी उसे अपने साथ लेकर चले। युवक से पूछताछ की जा रही है। वहीं कड़ी सुरक्षा में डिप्टी सीएम के मंच के करीब 20-30 मीटर तक रिवॉल्वर लेकर पहुंचना बड़ी चूक है। उप मुख्यमन्त्री डा. दिनेश शर्मा ने आगरा के तारघर मैदान पर 30 किसानों को अपने हाथ से ऋण मोचन योजना के प्रमाण पत्र दिए। कार्यक्रम के दौरान कुल 5000 किसानों को प्रमाण पत्र दिए गए। इस दौरान फतेहपुरसीकरी के सांसद चौधरी बाबूलाल और सभी नौ विधायक मौजूद रहे।

मेरठ में खूनी संघर्ष, दो सगे भाइयों की मौत

गाड़ी पार्क करने की जगह बनी फसाद का अड्डा, 2 समुदायों में चली ताबड़तोड़ गोलियां मेरठ मेरठ में फलावदा के सनौता गांव में बृहस्पतिवार शाम अलग-अलग समुदाय के दो परिवारों में हुए खूनी संघर्ष में गोली लगने से दो सगे भाइयों की मौत हो गई। दोनों पक्षों में जमकर मारपीट के साथ ही पथराव व फायरिंग भी हुई। मौके पर एसएसपी, एसपी देहात समेत कई थानों की पुलिस फोर्स पहुंची। तनाव की स्थिति देखते हुए गांव में पुलिस और पीएसी बल तैनात किया गया है। मृतकों के पिता की ओर से दर्ज कराई गई एफआईआर में सात लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। इनमें से एक गुलफाम को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। एसपी देहात राजेश कुमार के मुताबिक सनौता गांव में दलित और मुस्लिमों की मिश्रित आबादी है। धर्मवीर व पप्पू समेत कई लोगों के घरों के बाहर बुग्गी खड़ी होती हैं, जिसका दूसरे समुदाय के लोग ऐतराज करते हैं। बुग्गी खड़ी होनी बंद नहीं हुई तो दूसरे समुदाय ने भी अपने घर के बाहर कार खड़ी करनी शुरू कर दी, जिसे लेकर विवाद बढ़ गया। बृहस्पतिवार शाम सात बजे कार खड़ी करने को लेकर दोनों पक्षों में कहासुनी होने लगी। इसके बाद धर्मवीर और हाजी निसार पक्ष के लोग आमने-सामने आ गए। आरोप है कि दलित पक्ष के लोगों ने ताबड़तोड़ गोलियां चला दीं। जिसमें निसार के बेटे दिलशाद (24) व मनसाद (20) को गोली लगी। दोनों तरफ से गोलियां चलते ही ग्रामीणों में भगदड़ मच गई। परिवार के लोग दोनों घायलों को एक निजी अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। दोनों सगे भाइयों की मौत पर सनौता और आसपास के गांवों में तनाव की स्थिति बन गई। आरोपियों के घर पर हमले की कोशिश की गई। गनीमत रही कि पुलिस ऐन वक्त पर मौके पर पहुंच गई। एसएसपी मंजिल सैनी ने पीड़ित परिवार को आश्वासन दिया कि किसी भी आरोपी को बख्शा नहीं जाएगा। पुलिस ने दोनों समुदाय के लोगों से शांति बनाने की अपील की।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3