देहरादून परिवर्तन रैली में मोदी: देश को काले धन और काले मन ने बर्बाद किया

देहरादून। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को देहरादून के दौरे पर रहेंगे, जहां वो परेड ग्राउंड में ऑल वेदर रोड परियोजना का शिलान्यास करेंगे। 12500 करोड़ रुपए की इस परियोजना के शिलान्यास के दौरान पीएम मोदी के साथ केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और धर्मेंद्र प्रधान भी मौजूद रहेंगे। चारधाम यात्रा के साथ के लिए यह रोड बेहद महत्वपूर्ण मानी जा रही है। यह परियोजना चीन बॉर्डर तक बनेगा, जिससे दोनों देशों के बीच सीमा विवाद का मामला कुछ हद तक भारत के पक्ष में स्थिर रहने के आसार हैं। बता दें कि देश में ऑल वेदर रोड की शुरुआत उत्तराखंड से हो रही है, जिससे यहां के लोगों को केंद्र सरकार से काफी उम्मीदें हैं। माना तो यह भी जा रहा है कि ऑल वेदर प्रोजेक्ट के साथ प्रधानमंत्री उत्तराखंड को कोई और बड़ी सौगात दे सकते हैं। 27 दिसंबर को देहरादून में होने वाली पीएम मोदी की रैली को सफल बनाने को लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं में काफी उत्साह देखने को मिल रहा है। कार्यकर्ताओं ने रैली की तैयारियां भी पूरी कर ली है। एक तरफ कार्यकर्ताओं ने भीड़ जुटाने के लिए काम करना शुरू कर दिया है तो वही दूसरी तरफ पुलिस प्रशासन के सामने मोदी की सुरक्षा के लिए कड़े इतंजाम किए है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 'नितिन गडकरी जी दुनिया भर में जो अच्छा है उसे खोजने में लगे रहते हैं. अच्छे से अच्छा कैसे हो यह खोजते रहते हैं, सरकार बनने के समय में ही मैंने उन्हें काम दिया था, लेकिन ऐसा रास्ता बने कि आने वाले 100 साल तक किसी कठिनाई से गुजरना न पड़े, वह इस फिराक में लगे रहे. आज दुनिया भर की कंसल्ट‍िंग एजेंसियों की मदद से ऐसी उत्तम रचना आने वाले दिनों में होगी कि जब आप उत्तराखंड की यात्रा करेंगे तो श्रवण कुमार की जगह इस सरकार और नितिन गडकरी जी को जरूर याद करेंगे.' उन्होंने कहा कि, ' इन सब पर 12 हजार करोड़ रुपये लगेगा, इसमें सीमेंट, पत्थर लगता है उसके साथ पसीना भी लगता है. कल्पना करिए कि कितने नौजवानों को रोजगार मिलेगा, उत्तराखंड में आय का सबसे बड़ा साधन यात्री हैं, टूरिज्म है. व्यवस्थाएं ठीक हों , तो हिंदुस्तान का कौन-सा परिवार यहां आकर पांच-सात दिन गुजारना नहीं चाहेगा.' प्रधानमंत्री ने कहा, 'ऐसा कहा जाता है कि पहाड़ का पानी और जवानी वहां के काम नहीं आती, लेकिन मैंने इस कहावत को बदलने का ठान लिया है, ऐसा उत्तराखंड बनाएंगे जिसमें हिमालय के लोगों को किसी और शहर न जाना पड़े' प्रधानमंत्री ने मंगलवार सुबह ट्वीट कर बताया था कि उत्तराखंड में जिन प्रोजेक्ट का उद्घाटन होगा उनमें मौजूदा राजमार्गों का कम से कम 10 मीटर तक चौड़ीकरण, 13 बाइपास निर्माण, दो सुरंगों और 25 बड़े पुलों का निर्माण शामिल है. चारधाम राजमार्ग विकास कार्यक्रम के तहत कुल 900 किमी सड़कों का निर्माण होगा , जिनके द्वारा उत्तराखंड के पवित्र तीर्थों को जोड़ा जा सकेगा. इस प्रोजेक्ट के जरिए कहीं न कहीं पीएम मोदी एक तरफ चुनावी तीर चलाना चाहते हैं तो वहीं दूसरी ओर हरीश रावत इसे अपने हाथ से निकलता हुआ एक मौका समझ रहे हैं. चारधाम में उत्तराखंड के चार प्रसिद्ध तीर्थस्थान केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री आते हैं.इस परियोजना से चारों स्थानों पर सभी मौसमों में अबाधित यात्रा सुनिश्चित हो सकेगी. केंद्र ने इसके लिए सीधे 11,500 करोड़ रुपये मंजूर किए हैं.

शिमला के नारकंडा में बर्फबारी, एनएच 5 पर ट्रैफिक रूकी

हिमाचल नववर्ष के पहले दिन बर्फबारी का तोहफा, फिर बिगड़ेंगे मौसम के मिजाज शिमला: प्रदेश को क्रिसमस के बाद नववर्ष के पहले दिन पुन: बर्फबारी का तोहफा मिला। हालांकि रविवार सुबह धूप खिली रही लेकिन दोपहर बाद आसमान में बादल छाने लगे, ऐसे में शाम करीब 5 बजे के बाद राज्य के ऊपरी क्षेत्रों में बर्फ के फाहे गिरने शुरू हो गए। इस दौरान प्रदेश की ऊंची पर्वत शृंखलाओं जिनमें बारालाचा, कल्पा, कुल्लू के ऊंचे क्षेत्रों व रोहतांग दर्रा सहित ऊंचाई वाले क्षेत्रों में हल्का हिमपात दर्ज किया गया, वहीं कुफरी में शाम के समय पहले ओलावृष्टि हुई तथा कुछ ही देर बाद बर्फ के फाहे गिरना शुरू हो गए। इसके अलावा सांगला सहित किन्नौर की पहाडिय़ों में भी हल्का हिमपात दर्ज किया गया। शिमला घूमने आए पर्यटकों को जैसे ही सूचना मिली कि कुफरी में हिमपात हो रहा है तो वे तुरंत गाड़ियां लेकर कुफरी की ओर रवाना हो गए। इस दौरान भारी तादाद में पर्यटकों ने कुफरी की ओर रुख किया, वहीं कुल्लू-मनाली व जिला मंडी के करसोग क्षेत्र में बारिश दर्ज की गई। मौसम विभाग की मानें तो प्रदेश में रविवार को पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हुआ जिसके चलते मौसम ने करवट बदली। इसके बाद अब आगामी 3 जनवरी को पुन: पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होगा। इस दौरान बारिश व बर्फबारी होने की भी संभावना बनी हुई है। बहरहाल ऊंचे क्षेत्रों में हिमपात होने के बाद तापमान में काफी गिरावट दर्ज की गई, ऐसे में प्रदेश में शीतलहर का भी प्रकोप बढ़ गया है। हिमाचल में तापमान में काफी गिरावट हुई है। प्रदेश के नाहन को छोड़ सभी क्षेत्रों में न्यूनतम तापमान 9 डिग्री से कम दर्ज किया जा रहा है। रविवार को केलांग का न्यूनतम तापमान -4.1 जबकि शिमला 4.6, सुंदरनगर 3.8, भुंतर 3.0, कल्पा -1.4, धर्मशाला 8.8, ऊना 6.4, नाहन 9.1, पालमपुर 5.5, सोलन 3.6, चम्बा 3.0, मनाली 1.0, कांगड़ा 6.6, बिलासपुर 5.2, हमीरपुर 6.4 और मंडी का न्यूनतम तापमान 4.1 डिग्री सैल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग के निदेशक डा. मनमोहन सिंह ने बताया कि आगामी 3 जनवरी को प्रदेश में पश्चिमी विक्षोभ पुन: सक्रिय होगा। इस दौरान प्रदेश में बारिश व बर्फबारी की संभावना बनी हुई है। ऊपरी क्षेत्रों में हुए हल्के हिमपात के बाद तापमान में काफी गिरावट आई है। आनी बाह्य सराज क्षेत्र के लोगों के लिए वर्ष 2017 नई उमंग और नई खुशियां लेकर आया। महीनों से वर्षा न होने के कारण शुष्क हुई आनी की धरा को कुदरत ने नववर्ष के पहले ही दिन वर्षा व बर्फबारी का नायाब तोहफा दिया जिसे पाकर किसान व बागवान फूले नहीं समा रहे हैं। रविवार को वर्षा के बीच आनी उपमंडल को जिला मुख्यालय से जोडऩे वाले 10280 फुट की ऊंचाई पर स्थित प्रमुख जलोड़ी दर्रे पर लगभग 4 इंच ताजा हिमपात होने की सूचना मिली है जिससे एन.एच. 305 जलोड़ी जोत से आगे वाहनों की आवाजाही के लिए अस्थायी तौर पर बंद हो गया है। उधर, बीड़ में देवताओं की शरण में वर्षा के लिए गए चौहार घाटी व छोटा भंगाल के लोगों की फरियाद सुन ली गई तथा प्रात: से ही हिमपात व वर्षा जारी है जिससे तापमान में 4 डिग्री की गिरावट दर्ज की है। तापमान 10 डिग्री सैल्सियस तक पहुंच गया है तथा रात में पारा जमावबिंदु पर पहुंच गया है। छोटा भंगाल सुधार सभा के अध्यक्ष तिलक ठाकुर ने बताया कि लौहारड़ी में 10, जघार में 20, सरीनाला में 30 व थमसर में 40 सैंटीमीटर हिमपात होने की सूचना है। उहल व लंबाडग नदियों का जल बहुत कम होने से शानन व बस्सी पनविद्युत परियोजनाओं का मात्र 140 क्यूसिक ही पानी मिलने से 10 से 15 मैगावाट उत्पादन होने की पुष्टि कार्यकारी अधिकारी ओ.पी. ठाकुर ने की है।

More Articles...

  1. पतंजलि फूड फैक्टरी से मिले हथियार, जांच में जुटी एसटीएफ
  2. खाई में बस गिरने से 12 की मौत, 39 घायल
  3. उत्तराखंड में नए सत्र से प्राइवेट परीक्षाएं खत्म, जारी हुआ आदेश
  4. त्तराखंड संकट पर HC की टिप्‍पणी- ताकत किसी को भी भ्रष्‍ट कर सकती है, राष्‍ट्रपति भी हो सकते हैं गलत -
  5. उत्‍तराखंड के चमोली और पिथौरागढ़ में बादल फटे, मरने वालों की संख्‍या 30 हुई
  6. प्रियंका के साथ छुट्टियां मनाने शिमला पहुंचीं सोनिया
  7. उत्तराखंड बोर्ड परीक्षा परिणाम में प्रशंसा और प्रियंका ने मारी बाजी
  8. बारिश ने बदरी-केदार यात्रा पर लगाया ब्रेक, हेलीकाप्टर सेवा भी रोकी गई
  9. हरीश रावत ने फिर लगाई विधायकों की बोली, एक और स्टिंग आया सामने
  10. शिमला में घर बनवा रही हैं प्रियंका, आर्किटेक्ट को दिए खास निर्देश

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3