फर्जी महिला आईएएस मामले में उत्तराखंड ने भेजी केंद्र को रिपोर्ट

देहरादून,उत्तराखंड सरकार ने राज्य में पिछले सप्ताह चर्चित फर्जी महिला आईएएस (भारतीय प्रशासनिक सेवा) अधिकारी के मामले में 'आंतरिक रिपोर्ट' केंद्र सरकार को भेज दी है। एक अधिकारी ने बताया कि यह रिपोर्ट राज्य के मुख्य सचिव, लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासनिक अकादमी के प्रबंधन और मसूरी जिला प्राशसन द्वारा तैयार की गई है। एक सूत्र ने बताया कि रिपोर्ट में मामले की विस्तृत रिपोर्ट है, जिसमें रूबी चौधरी नाम की एक महिला को नकली पहचान पत्रों और प्रत्यायकों के साथ आईएएस परिवीक्षार्थियों को प्रशिक्षित करने वाली उच्च सुरक्षा अकादमी में रहते पकड़ा गया था। रूबी अब पांच दिन की पुलिस रिमांड पर है। उसका आरोप है कि केरल कैडर के आईएएस अधिकारी तथा अकादमी में उपनिदेशक सौरभ जैन ने उसका यहां प्रवेश करवाया था। उसने वरिष्ठ आईएएस अधिकारी पर अकादमी के पुस्तकालय में उसे नौकरी दिलाने के लिए 20 लाख रुपये की रिश्वत लेने का भी आरोप लगाया। इस बीच, एक स्थानीय टीवी चैनल द्वारा किए गए एक स्टिंग ऑपरेशन में अकादमी के गार्ड देव सिंह ने भी चौधरी और जैन के बीच निकटता के बारे में बताया। उसने बताया कि जैन के इशारे पर महिला को सरकारी कमरा आवंटित किया गया था। उत्तराखंड पुलिस ने मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया है और इस पर भी विचार कर रही है कि उच्च सुरक्षा वाले इलाके में कैसे इतनी बड़ी सुरक्षा चूक हुई। राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि उत्तराखंड सरकार के पास मामले को छिपाने की कोई वजह नहीं है। मामले में दोषी पाए जाने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी।

शास्त्री अकादमी प्रकरण : रूबी के लैपटॉप पर भी पुलिस ने की छानबीन

देहरादून। हाइप्रोफाइल लाल बहादुर शास्त्री अकादमी प्रकरण मामलें में गिरफ्तार रूबी चौधरी के लैपटॉप पर भी पुलिस ने छानबीन की है पुलिस ने बताया है कि हमें इस बात की शंका है कि इसमें कुछ तथ्य छिप्पे हुए है। बकौल पुलिस, रूबी ने ही अपने लैपटॉप को कहीं छुपा के रख दिया है और इसकी बरामदगी कराने के लिए भी वह स्वयं बता रही है। रूबी का मानना है कि उसने इसी लैपटॉप में नौकरी जॉइन करने का एक नियुक्ति पत्र भी बनाया था। जिसे उसने घर पर दिखाया था। मामले में पुलिस रूबी के परिवार वालों और सगें संबन्धियों से पहले ही इस बारें में पूछ चुक है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार बताया गया है कि मुजफ्फरनगर पुलिस ने रूबी के पिता सत्यवीर एवं भाई मोहित से भी इन्क्वायरी करने के बाद एकेडमी प्रशासन को अपनी बनाई गई रिपोर्ट सौंपी है। एकेडमी के संयुक्त निदेशक डी. नरियाला की ओर से पेश की गई अधिसूचना में शुक्रवार को बताया गया था कि कुछ समाचार माध्यमों में प्राप्त खबरों पर अपनी प्रतिक्रिया में एकेडमी रूबी चौधरी द्वारा संस्थान और उसके उप निदेशक सौरभ जैन के विरूद्ध लगाये गये आरोपों को पूरी तरह से रद्द किया है।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3