रोज घर में इस्तेमाल होने वाली चीजों में है छिपा कैंसर

नई दिल्ली ।  क्या आपको पता है, आपके घरों में इस्तेमाल होने वाले वाली जरूरी चीजों में कैंसर की वजहें छुपी हो सकती हैं। इसमें कीटनाशक से लेकर लेकर कम मात्रा में इस्तेमाल होने वालीं दवाइयां भी शामिल हो सकती हैं।28 देशों के 174 वैज्ञानिक हाल ही में हुए एक शोध के बाद इस नतीजे पर पहुंचे हैं। इस दल में भारतीय वैज्ञानिक भी थे। इन्होंने घरों में रोज इस्तेमाल होने वाले केमिकल्स के रिऐक्शन पर शोध किया था। इस शोध के मुताबिक इन सब केमिकल्स के संयुक्त प्रभाव से भविष्य में कैंसर होने की आशंका बढ़ जाती है।अभी तक घर में इस्तेमाल होने वाले केमिकल्स से कैंसर होने पर शोध नहीं किया गया था। ताजा शोध से इन केमिकल्स के कारसिनजन (कैंसर पैदा करने वाला पदार्थ) होने का पता चला है।इस शोध में 85 केमिकल्स को शामिल किया गया था। वैज्ञानिकों ने इन केमिकल्स के प्रभाव और उन 11 लक्षणों के बीच संबंध ढूंढने की कोशिश की, जो कैंसर की पहचान बताते हैं। इसमें से 50 केमिकल्स ऐसे पाए गए जो कैंसर के शुरुआती चरण की वजह बन सकते हैं। 13 केमिकल्स ऐसे पाए गए, जो बाकी केमिकल्स के मुकाबले किसी को तेजी से कैंसर की ओर धकेल सकते हैं। 22 केमिकल्स में ऐसे कोई लक्षण नहीं पाए गए, जो कैंसर को न्योता देते हों।खतरनाक केमिकल्स या चीजों में कीटनाशक, फंगसनाशक, पेस्टीसाइड, फूड कंटेनर, वॉटर बॉटल्स, हाथ धोने वाले केमिकल्स, कॉस्मेटिक, मिरगी के इलाज की दवाई, सिरदर्द, गठिया और बुखार की दवाई, पेंट, निर्माण सामग्री, एयरक्राफ्ट, वॉशिंग पाउडर जैसी रोजाना इस्तेमाल होने वाली चीजें हैं।लंदन की ब्रूनेल यूनिवर्सिटी के प्रफेसर हम्माद यसाई ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि इस शोध का मकसद रोजाना इस्तेमाल में आने वाले केमिकल्स की वजह से कैंसर के आशंकित खतरे को पहचानना था। उन्होंने कहा कि ये केमिकल्स शरीर में पहुंच जाने पर कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।हालांकि, उन्होंने साफ किया, 'हम यह दावा नहीं कर रहे कि ऊपर बताई गई चीजों से कैंसर होता है। हमने यह परिकल्पना की है कि अगर यह केमिकल्स मानव शरीर में पहुंचे तो इनसे कैंसर की शुरुआत हो सकती है।'आपको बता दें कि अभी तक प्लास्टिक में इस्तेमाल होने वाले BPA या टूथपेस्ट में इस्तेमाल होने वाले ट्राइकलसन जैसे केमिकल्स से होने वाले दूसरे नुकसानों के बारे में ही जानकारी थी। इनसे कैंसर के आशंकित खतरे की बात सुनना, कई लोगों के लिए चौंकाने वाला मामला है।

София plus.google.com/102831918332158008841 EMSIEN-3